मैं ठाड़े रहियो भीम, कदम वाली छांव में...

अम्बेडकरनगर, ग्राम-डभौरा, तहसील-जवा जिला-रीवा से शर्मिलाजी बहिनी दरबार से एक गीत प्रस्तुत कर रही हैं :
मैं ठाड़े रहियो भीम, कदम वाली छांव में-
गर्मी का ऋतु आया, गर्मी ने बहुत सताया-
तुम पंखा लेकर अइयो, कदम वाली छांव में-
मै पंखा लेकर आई, कदम वाले छांव में-
बरसात का मौसम आयो, बरसात ने बहुत सतायो-
मैं छतरी ले कर आऊँ, कदम वाले छांव में-
ठंडी का मौसम आया, ठंडी ने बहुत सताया-
हम कम्बल लेकर अइयो, कदम वाली छांव में-
तुम खड़े रहियो भीम कदम वाली छावं में

Posted on: May 24, 2015. Tags: Sharmila Bahinidarbar

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download