हमारे सरपंच कोई काम नहीं करते, कृपया उनसे बात करें और कलेक्टर साहब से भी शिकायत करें...

ग्राम-मंगडौर, तहसील-जवा, जिला-रीवा (मध्यप्रदेश) से रामबली साहू गाँव के सरपंच पर आरोप लगा रहे है कि वे गाँव में विकास कार्य नही कराते है चाहे वह सीसी रोड हो या फिर हैंडपंप जो कई दिनों से बंद पड़े रहते हैं लेकिन वे इस ओर बार-बार बोलने पर भी ध्यान नहीं देते, शौचालय निर्माण का पैसा ग्रामीणों के खाते में आ गया है लेकिन सरपंच द्वारा लोगो के जो जरुरी कागजात है वो जमा नही कर रहे है इसीलिए सीजीनेट के साथियों से अनुरोध है कि आप ग्राम पंचायत सरपंच को एवं जिला कलेक्टर को फ़ोन लगाकर दबाव बनाएँ ताकि ग्रामीणों की समस्याओं का निराकरण हो सके...सरपंच@8349223842, कलेक्टर@9425903973. ग्रामीण रामबली साहू@9685946977.

Posted on: May 08, 2017. Tags: RAMBALI SAHU

हम पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक लोगों को छात्रवृत्ति नहीं मिल रही है कृपया फोन कर के दबाव डालें...

रीवा (मध्यप्रदेश) से रत्नेश साहू सरस्वती विज्ञान महाविद्यालय (कोड नम्बर 30498) में स्कॉलरशिप नही मिलने की समस्या बता रहे है कि अन्य पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण विभाग रीवा द्वारा हमारा फार्म यह कह कर रिजेक्ट कर दिया कि आप लोग प्रमोट छात्र है, फिर हम लोगो से दोबारा फार्म भरवाया गया लेकिन हम लोगो की छात्रवृत्ति आज तक नहीं दिया गया, जबकि अन्य महाविदयालयों में प्रमोट छात्रों को छात्रवृत्ति दी जा रही है, कृपया सीजीनेट के श्रोताओं से निवेदन है की हम छात्रों को छात्रवृत्ति दिलाने में मदद करे आप इन नम्बरों पर फ़ोन कर दबाव डाले ताकि हमें छात्रवृत्ति मिल सके- जिला कलेक्टर रीवा@9425903973. रत्नेश साहू छात्र@7898732376.

Posted on: Apr 25, 2017. Tags: RATNESH SAHU

पड़े के बाद जोड़ीदार, बड़ा मजा आए...पहाड़ी कोरबा गीत-

ग्राम-गणेशपुर, जिला-रायगढ, (छत्तीसगढ़) से भान साहू के साथ में है पहाड़ी कोरबा आदिवासी समुदाय के साथी जीतनराम जो दोनों आँखों से देख नहीं पाते है बचपन से ही उनकी आँखों की रोंशनी नही है लेकिन जीतनराम संगीत की कला से लोगो का मन जीत लेते है ऐसे ही एक गीत प्रस्तुत कर रहे है:
पड़े के बाद जोड़ीदार, बड़ा मजा आए...

Posted on: Mar 28, 2017. Tags: BHAN SAHU

बिरहोर भाषा में पहाड़ को बुरु, घर को ओडा, आग को सेंगेल, कुल्हाड़ी को आके, बैल को ओरी कहते हैं...

ग्राम-खलगोरा, पंचायत-दर्रीडीह, ब्लॉक-धरमजयगढ़, जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से भान साहू के साथ में केन्दाराम बिरहोर है जो उनके क्षेत्र के जंगलो में क्या-क्या होता है और इसको बिरहोर भाषा में क्या कहते है उनके बारे में बता रहे है. बिरहोर एक अति पिछडे आदिवासी समूह है जो कुछ साल पहले तक अधिकतर जंगल में रहते थे. उनकी एक ख़ास भाषा है जिसको अब बहुत थोड़े लोग ही जानते हैं. वे बता रहे हैं कि उनकी भाषा में साल पेड़ को सरजुम धारू, अतना धारू को साजा पेड़, दौरा पेड़ एसल दरू, महुआ पेंड को मनकम धारू, अचार पेड़ को तरोप दरू, सजावन पेड को सलिया दरू, धीरी मतलब पत्थर होता है बिरहोर भाषा में. केन्दाराम बिरहोर@7222968155

Posted on: Feb 23, 2017. Tags: BHAN SAHU

ओ छुपने वाले जादूगर अब हमने तुझे पहचान लिया...हिन्दी गीत

ग्राम-तबाही कला, पोस्ट-अखेतपुर, थाना+तहसील-ब्यौहारी, जिला-शहडोल मध्यप्रदेश से आशा साहू एक गीत सुना रही है:
ओ छुपने वाले जादूगर अब हमने तुझे पहचान लिया-
मैं ऐसी नागिन बन जाउंगी जो बिल में जा छुप जाउंगी-
ओ छुपने वाले जादूगर अब हमने तुझे पहचान लिया...

Posted on: Dec 17, 2016. Tags: ASHA SAHU

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download