मुनिया के माई ललमुनिया के माई...कोयला मज़दूर लोकगीत

मुनिया के माई ललमुनिया के माई
हम कोईलरीया में जाईब रे ललमुनिया के माई !
जो तेहूँ कोइलरिया में जईबे
करिया बदन होई जइहें रे भकभेलारा के भाई !
करिया बदन खुबे पईसा कमईहें
तोहरा के देईब नथिया गढ़ाइ रे ललमुनिया के माई !
जो तेहूँ कोइलरिया में जईबे
चलीजाइब हम नईहरवा रे भकभेलारा के भाई !
जो तेहूँ नईहर चलीजईबे
हमहूँ लेआईब सवतिया रे ललमुनिया के माई!

Posted on: Jun 01, 2013. Tags: Sachin Singh

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download