स्वास्थ्य स्वर-कंठ विकार का घरेलू उपचार...

बैधराज राघवेन्द्र राय जिला टीकमगढ़ मध्यप्रदेश से गला यानि कन्ठविकार के लिये देशी उपचार बता रहें है,कि न्यागार भी कहते है जिसको तेंदुवर भी कहते है, उसके पतों का पाउडर बना लीजिये और आधा चमच चुंड को आधा गिलाश पानी में उबालें| उबालने के उपरांत ठण्डा हो जाने दे भोजन के बाद रात्री में सेवन करें |दो या तीन दिन करेंगे तो आप का कंठ विकार ठीक हो जायेगा|इसके आलवा बुखार है बदन दर्द है पिंडरियो में दर्द है तो उसमे भी लाभकारी शिद्ध होगा | संपर्क@9519520931

Posted on: Jul 09, 2020. Tags: MP RAGHVENDRA RAY SWARA SWASTHYA TIKAMGARH

स्वस्थ्य स्वर-भंगरा के रस का घरेलू उपचार बता रहे है...

बैध कदरनाथ पटेल ग्राम रनई थाना पटना जिला कोरिया छत्तीसगढ़ से वनों द्वारा भंगरा का औषधि प्रयोग के बारे में बता रहें है, प्रमेह पिंड इस रोग में भंगरा का एक भाग रस तुलसी का पत्ते छीन का पत्ते का पटोल पत्ते एक एक भाग का चुंड मिलाकर तथा कांजी में पीसकर लेप करने से घातक प्रमेह पिंड के रोग को नष्ट कर देता है, इसका उपयोग करें दूसरा नंबर सलिपद रोग यानि हांथी पांव रोग जो एक पैर मोटा हो जाता है इसके पंचाग के लूगी को तेल में मिलाकर अथवा इसके रस से सिलपद रोग को मालिश करने से अत्यंत लाभ हप्ता है ,इस बीमारी को पूरी तरह से नष्ट कर देता है तीसरी बीमारी का नाम अग्निदाक्त अग्नि से जले हुये स्थान पर भंगरे के पत्ते मेहदी और मरवा के पत्ते के साथ पीसकर लेप करने से सिग्र ही लाभ होता है नया मास भरने में उपयोगी है, जब भरण हुआ ठीक होने लगे तब भांगरे पत्ते के रस दो भाग काली तुलसी के पत्र रस एक भाग दिन में दो तीन बार लगाते रहने से जलन ठीक हो जाता है, ओर शरीर पर किसी किस्म दाग ही नहीं पड़ने पता है हाथ पैर और जलन वा शरीर के खुजली इसके स्वरास्क मालिश से लाभ होता है| संपर्क न.@9826040015

Posted on: Jul 09, 2020. Tags: CG JILA KEDERNATH KORIYA PATEL SWSTHYA SWARA

स्वस्थ्य स्वर -रक्तचाप बीमारी का घरेलु उपचार बता रहें है...

बैध केदारनाथ पटेल ग्राम रंनई थाना पटना जिला कोरिया छत्तीसगढ़ से वनों औषधि द्वारा भंगरा का उपयोग करने के लिए बता रहें है रक्तचाप में भंगरा के पतों का रस दो चम्मच सहद एक चम्मच दिन में दो बार सेवन कराने से ऊँचा रक्तचाप एक सप्ताह में सामान हो जाता है इसका उपयोग करें अदि पेट में कप्जी न हो तो सामान रह सकता है इसे पेट भी ठीक रहता है और भूंख भी बढता है रक्तचाप में बहुत ही लाभकारी दावा है ये भंगरा औषधि प्रायोग करें दूसरा रोग अग्निमदो पंडो रोग में भागंरा को कुछ दिन छाया मे सुखाकर तुंड बना ले उसमे बराबर के मत्रा में तिरपाल फल मिला ले और मिस्री मिला मिसरी को 20 ग्राम मात्रा पानी या सहाद के साथ मिलालें इसका दिन में तीन या चार बार खाने से पंडूरोग मिटता है जिसको भूंख न लगता हो वह इसका प्रायोग करें संपर्क न. @9826040015

Posted on: Jul 07, 2020. Tags: BAIDH CHHATISGARH JILA KEDARNATH KORIYA PATEL SWARA SWSTHYA

स्वस्थ्य स्वर -सुगर डायबिटीज के घरेलु उपचार के बारे में बता रहें है...

बैधराज राघवेन्द्र सिंह राय जिला टीकमगढ़ से सुगर डायबिटीज जैसे बीमरी औषधि प्रायोग के बारे में बता रहें है जामुन का भीगी गुडली को सुखा लेवे और उसे पाउडर बना करके खा सकतें है इससे सुगर लेवल कंट्रोल में रहेगा|इसके आलवा अगर आप कची गुडली को चबा कर खाते है ये फ़ायदा करती है और इससे भी लाभ होता है कडवी तीखी सेंधा खाने से बहुत फायदा होता है और रोगी महान भाव को लाभ होता है| 9519520931

Posted on: Jul 07, 2020. Tags: MP RAGHVENDRA RAY SINGH SWARA SWATHYA TIKAMGARH

स्वस्थ्य स्वर-खांसी से समस्या घरेलु उपचार बता रहें है...

जिला टीकमगढ़ मध्यप्रदेश से बैधराज राघवेन्द्र सिंह राय खांसी के लिए देसी जड़ी बूटी औषधि प्रायोग के बारे में बता रहें है, लघुकान्त कारी एक जमीन से लगा होता है जिसका फूल नीला होता है नीले फूल को निकल लेवे और लोहे के तवा आग पर रखकर करके थोडा सा सेंक लेवे, और सेहद साथ के खांसी वाले व्यक्ति को सेवन करादे दो या तीन दिन में उसे यह लाभ प्राप्त होगा| संपर्क न. @9519520931

Posted on: Jul 07, 2020. Tags: JILA MP RAGHUVENDRA RAY SINGH SWARA SWATHYA TIKAMGARH

View Older Reports »