एक ला इकलौता कथे, गली के गुनईया ला...चुटकुला कविता

ग्राम-उमेशपुर, पोस्ट-कृष्णपुर, तहसील-रामानुजनगर, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से सुमित सिंह छत्तीसगढ़ी भाषा में एक चुटकुला कविता सुना रहे हैं :
एक ला इकलौता कथे, गली के गुनईया ला-
दो ला दो आलू कथे, आलू के बेचईया ला-
तीन ला तितली कथे, फूल के बैठईया ला-
चार ला चपरासी कथे, घंटी के बजईया ला-
पांच ला पंजाबी कथे, टोपी के खोपईया ला-
छ: ला छिरका कथे, छेरी के चरईया ला-
सात ला संतादी कथे, जूता के खिलईया ला-
आठ ला अंथनी कथे, रुपिया के जोड़ईया ला-
नौ ला नाइन कथे, दाढ़ी के सटईया ला-
दस ला दशरथ कथे, धनुष के चलईया ला...

Posted on: May 11, 2017. Tags: SUMIT SINGH

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download