वक्त का ये परिंदा रुका है कहाँ...गीत

सुकमन सिद्धार, तरिया-जिला रायगढ़ से एक गीत सुन रहे हैं:
वक्त का ये परिंदा रुका है कहाँ,मैं था पागल जो उसको बुलाता रहा-
वक्त का ये परिंदा रुका है कहाँ,मैं था पागल जो उसको बुलाता रहा-
वक्त का ये परिंदा रुका है कहाँ-
चार पैसे कमाने मैं आया शहर ,गाँव मेरा मुझे याद आता रहा-
लौटता था मैं जब काट के दोपहर-
अपने हाथों से खाना खिलाती थी माँ...

Posted on: May 08, 2022. Tags: RAIGARH SONG SUKMAN SIDDAR TARIYA

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »


YouTube Channel




Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download