करे कोशिश अगर इंसान को क्या-क्या नही मिलता...कविता

ग्राम-चरगांव, पंचायत-चरगांव, जिला-डिंडोरी, (मध्यप्रदेश) से अंजली सोनवानी एक कविता सुना रहे हैं:
करे कोशिश अगर इंसान को क्या-क्या नही मिलता-
वह उठकर चलके तो देखो जिसे रास्ता नही मिलता-
भले धुप हो काटें हो चलना ही पड़ता है-
किसी प्यासे को घर बैठे दरिया नही मिलता-
कहें क्या ऐसे लोगों से जो कहकर लडखडाते हैं-
की हम आकाश छू लेते मगर मौक़ा नही मिलता...

Posted on: May 27, 2019. Tags: ANJLI SONWANI DINDORI MP POEM

जीवन में सफल होने के लिए तीन फैक्ट्री जरुर लगाएं...सुविचार

ग्राम-चरगांव, पंचायत-चरगांव, जिला-डिंडोरी, (मध्यप्रदेश) से अंजली सोनवानी एक सुविचार सुना रही हैं:
जीवन में सफल होने के लिए तीन फैक्ट्री जरुर लगाएं-
ब्रेन में अस्वस्थी ( दीमक को ठन्डे रखकर किसी से बात करना चाहिए)-
जुबान में शुगर फ़ेक्ट्री ( मुहं से मीठी वाणी बोलना चाहिए)-
हाथ में लव फ़ेक्ट्री (हर किसी से प्यार से बात करना चाहिए)...

Posted on: May 27, 2019. Tags: ANJLI SONWANI DINDORI MP THOUGHT

तोड के मज़बूरी के बंधन पा लूँ मै भी आत्म सम्मान को...कविता

ग्राम-चरगांव, पंचायत-चरगांव, जिला-डिंडोरी, (मध्यप्रदेश) से अंजली सोनवानी एक कविता सुना रही है:
आजादी के पंख लगा के छू मै भी आसमान को-
तोड के मज़बूरी के बंधन पा लूँ मै भी आत्म सम्मान को-
तुफानो से खुद ही लड़ के खुद के दम पर आगे बढ़ के-
चाहूँ मै भी मंजिल पाना अपने गुण सबको दिखलाना-
कैद हो जो पंछी पिंजरे में वो क्या जाने गगन की माया-
तन मन स्वतंत्र हो जब मेरा तभी मानूँ जीवन पाया...

Posted on: May 27, 2019. Tags: ANJLI SONWANI DINDORI MP POEM

हे वीणा वादनी माँ हमें अपनी शरण ले लो, जिभ्या में वास करके विद्द्यायें सभी दे दो...वंदना

ग्राम-चरगांव, पंचायत-भैसवाही, तहसील-डिंडोरी, (मध्यप्रदेश) से अंजली सोनवानी एक वंदना गीत सुना रही है:
हे वीणा वादनी माँ हमें अपनी शरण ले लो-
जिभ्या में वास करके विद्द्यायें सभी दे दो-
इस तोतली वाणी में श्रद्धा है न भक्ति है-
तेरा गान करूँ माता ऐसी भी न शक्ति है-
वर दायक हाथों माता धन्य हमें कर दो-
करते हैं आदि शुर गण माँ वंदना तेरी...

Posted on: May 26, 2019. Tags: ANJLI SONWANI DINDORI MP

जो अपने से सदा बड़ो का आदर मान किया करते हैं...कविता-

ग्राम-तरगाँव, पंचायत-भैसवाही, जिला-डिंडोरी (मध्यप्रदेश) से आरती सोनवानी एक कविता सुना रही हैं :
जो अपने से सदा बड़ो का आदर मान किया करते हैं-
पास बड़ो के आने पर उठ सम्मान किया करते हैं-
अतिथि जनो के घर आने पर जो सत्कार करते हैं-
देव समझकर अभिनंदन करते वे बच्चे अच्छे लगते हैं...

Posted on: May 26, 2019. Tags: ARTI SONWANI DINDORI MP POEM

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download