लाखो घर बर्बाद हो गए इस दहेज़ की बोली में...दहेज़ कविता

ग्राम-पड़ेगाँव, तहसील-तमनार, जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से बालकवि सोनवानी दहेज़ के ऊपर आधारित एक कविता सुना रहे हैं:
लाखो घर बर्बाद हो गए इस दहेज़ की बोली में-
अर्थी चढ़ी हजारो कन्या बैठ न पायी डोली में-
कितनो ने कन्या कि अपनी हाथ पीले कराने में-
कहाँ-कहाँ तक मस्तक टेके हाथी के सपन बताने में-
जिस पर बीती वाही जानता बात नहीं हैं कहने की-
जीवन भर जो कर्ज लग गई सीमा टूटी सहने की...

Posted on: Aug 27, 2016. Tags: SONVANI RAIGRAH

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download