मन रामा ने बहन बजईयो, जाके बिंद्रावन बस जाई...पारम्परिक लोकगीत

ग्राम-सरईमाल, जिला-डिंडोरी मध्यप्रदेश से संतोष अहिरवार के साथ गाँव की बहने सोना, चंदा, उषा है जो एक पारम्परिक लोकगीत सुना रही है :
मन रामा ने बहन बजईयो, जाके बिंद्रावन बस जाई-
बिंद्रावन बस गए गंगा जमुना को मोये-
जल चारो शरण नहीं पाई, जाके बिंद्रावन बस जाई-
बिंद्रावन बस गए साधू संतो को मोहे-
धुनी जलन नहीं पाई, जाके बिंद्रावन बस जाई-
मन रामा ने बहन बजाई...

Posted on: Dec 24, 2016. Tags: SONA CHANDA USHA

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download