राह नही मिली है, अब चलने को...कविता

ग्राम-भातखावा चाय बागान, जिला-आलीपुरद्वार (पश्चिम बंगाल) से सोनाली महाली
लडकियों को केन्द्रित रखते हुए ‘मेरी राह’ कविता सुना रही है :
राह नही मिली है, अब चलने को-
चलती जा रही हूँ, अब मै कभी न रुकने को-
आरजू मिली नही है,अब मचलने को-
ज़ोश नही चड़ी अब, कुछ करने को-
पंछी बनके उड़ने लगी हु मै-
आशमा को अब छुने लगी हूँ मै-
ऐसा लगता है हर राह को, इंतज़ार है मेरा...

Posted on: Feb 18, 2019. Tags: SONALI MAHALI

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download