पिंजड़ा कर पोसल सुगा का बोली बोले नीरे...दोमकच विवाह गीत

ग्राम-पंचायत-भेलकच, थाना-रमकोला, तहसील-प्रतापपुर, जिला-सूरजपुर,(छत्तीसगढ़) से सीता रानी के साथ में सीता पटबंदी एक दोमकच विवाह गीत सुना रही है:
पिंजड़ा कर पोसल सुगा का बोली बोले नीरे-
ससुरारी जाबो रे रोवान खोसा दाखे-
धरती ला काट-काट चौरा छाववे नी-
झालर खुटो लो-लो हमर मढवा तनाय-
जलदी खिचाला हार पानी के हरियर-
बन दिखे हरियर सरसों के फूल पियर दिखे लाल...

Posted on: Feb 16, 2018. Tags: SEETA PATBANDI

लोख लोखड़ी लोकर कोषा न येना गाता हो नांद देवरों लोखड़ी...लोखड़ी गीत -

जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से सीता पट्बंदी लोखड़ी त्यौहार के उपलक्ष्य में एक लोखड़ी गीत सुना रही है:
लोख लोखड़ी लोकर कोषा न-
येना गाता हो नांद देवरों लोखड़ी-
ये छानी वो छानी दूर परेवा-
मोर परेवा न लागे ला लूँ खिलौना लोखड़ी-
काट लागन गेडाऊ घरत हमार दूरा लोखड़ी-
लोख लोखड़ी लोकर कोषा न-
येना गाता हो नांद देवरों लोखड़ी...

Posted on: Dec 31, 2017. Tags: SEETA PATBANDI

दीपवाली न यन मतोम दा वे नानो निमा यो वेया...गोंडी दीपावली गीत -

मरकापारा, ग्राम-दुगेली, जिला-दंतेवाडा (छत्तीसगढ़) से सीता पटबंदी कौशी गल्लो से एक गोंडी सुन रही है:
दीपवाली न यन मतोम-
दा वे नानो निमा यो वेया-
अलेडा केला निमा यो वेया-
केलडा नानो निमा यो वेया-
पाटा बाबो नित्ता अणि निमा यो वेया-
दीपवाली न यन मतोम...

Posted on: Nov 22, 2017. Tags: SEETA PATBANDI

कहाँ जग फूले चम्पा चमेली मोरे सुग्गा जी...सुग्गा गीत -

जिला-दंतेवाडा (छत्तीसगढ़) से सीता पटबंदी एक सुग्गा गीत सुना रही है:
कहाँ जग फूले चम्पा चमेली मोरे सुग्गा जी-
कहाँ जग फूले गोंदा फूल-
राजा राम सुग्गा कहाँ जग फूले गोंदा फूल-
झरिया में फूले चम्पा चमेली मोरे सुग्गा गे-
बगीचा में फूले गोंदा फूले राजा राम सुग्गा-
कोने भैया पहिरे चम्पा चमेली मोरे सुग्गा जी-
बड़े भैया पहिरे चम्पा चमेली मोरे सुग्गा जी-
छोटे भैया पहिरे गोंदा फूल राजा राम सुग्गा जी...

Posted on: Oct 22, 2017. Tags: SEETA PATBANDI

सबसे अच्छी प्यारी मम्मी, सारे जग से नियारी मम्मी...माँ पर कविता

ग्राम-बेलकच, थाना-रमकोला, ब्लॉक-प्रतापपुर, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से सीता पटबंदी एक कविता सुना रही हैं:
सबसे अच्छी प्यारी मम्मी, सारे जग से नियारी मम्मी-
नौ महिना कोख में पाला दसवे महीने में दुनिया दिखाया-
अपने गोद में हमको सुलाया आप ने हमको धुप से बचाया-
छोटे थे तब दूध पिलाया दांत उगे तब अन्न खिलाया-
उंगली पकड़कर चलना सिखाया स्कूल में हमारा शिक्षा करवाया-
खिला पिलाकर स्वास्थ बनाया क ख ग घ पाठ पढ़ाया...

Posted on: Jan 21, 2017. Tags: SEETA PATBANDI

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download