इसी जनम में, इस जीवन में, हमको तुमको मान मिलेगा...कविता

मालीघाट, जिला-मुजफ्फपुर (बिहार) से रवि वर्मा केदारनाथ अग्रवाल की रचित एक कविता सुना रहे हैं :
इसी जनम में, इस जीवन में, हमको तुमको मान मिलेगा-
गीतों की खेती करने को, पूरा हिन्दुस्तान मिलेगा-
क्लेश जहाँ है, फूल खिलेगा, हमको तुमको प्रान मिलेगा-
फूलों की खेती करने को, पूरा हिन्दुस्तान मिलेगा-
दीप बुझे हैं जिन आँखों के, उन आँखों को ज्ञान मिलेगा-
विद्या की खेती करने को, पूरा हिन्दुस्तान मिलेगा-
मैं कहता हूँ, फिर कहता हूँ, हमको तुमको प्राण मिलेगा-
मोरों-सा नर्तन करने को, पूरा हिन्दुस्तान मिलेगा...

Posted on: May 02, 2018. Tags: RAVI VERMA

तू ही राम है, तू रहीम है, तू कृष्ण करीम ख़ुदा हुआ...प्रार्थना गीत

मालीघाट, जिला-मुजफ्फरपुर (बिहार) से रवि वर्मा एक प्रार्थना गीत सुना रहे है:
तू ही राम है, तू रहीम है, तू कृष्ण करीम ख़ुदा हुआ-
तू ही वाहे गुरु, ईसामसीह, हर नाम में तू समा रहा-
तेरी जात-पात क़ुरान में, तेरा दर्शन वैद पुराण में-
गुरु ग्रन्थ जी के बखान में, तू प्रकाश अपना दिखा रहा-
तू ही राम है, तू रहीम है, तू कृष्ण करीम ख़ुदा हुआ-
हरदास है कहीं कीर्तन, कहीं राम धुन कहीं आव्हान-
विधि वैद का है यह सब रचन, तेरा भक्त तुझे बुला रहा...

Posted on: Apr 28, 2018. Tags: RAVI VERMA

नभ किरण का रथ सजा है...कविता

मुजफ्फरपुर (बिहार) से रवि वर्मा हरिवंशराय बच्चन की एक कविता सुना रहे हैं:
नव-किरण का रथ सजा है-
कलि-कुसुम से पथ सजा है-
बादलों-से अनुचरों ने स्‍वर्ण की पोशाक धारी-
विहग, बंदी और चारण-
गा रही है कीर्ति-गायन-
छोड़कर मैदान भागी-
तारकों की फ़ौज सारी-
चाहता, उछलूँ विजय कह-
पर ठिठकता देखकर यह-
रात का राजा खड़ा है-
राह में बनकर भिखारी-
आ रही रवि की सवारी...

Posted on: Sep 16, 2017. Tags: RAVI VERMA

इसी जन्म में इस जीवन में हमको तुमको मान मिलेगा...कविता

मालीघाट, मुजफ्फरपुर (बिहार) से रवि वर्मा केदार नाथ अग्रवाल की कविता सुना रहे हैं :
इसी जन्म में इस जीवन में हमको तुमको मान मिलेगा-
गीतों की खेती करने को सारा हिंद्स्तान मिलेगा – देश जहां है फूल खिलेगा हमको तुमको प्रान मिलेगा-
दीप बुझे है जिन आखों के उन आखों को ज्ञान मिलेगा-
विद्या की खेती करने को पूरा हिन्दुस्तान मिलेगा...

Posted on: Jun 14, 2017. Tags: RAVI VERMA

राज्य की नीति है राज्य नीति, बदल गया नाम हुवा युद्ध नीति...कविता

मालीघाट ,जिला-मुजफ्फरपुर (बिहार) से रवि कुमार वर्मा एक कविता सुना रहे है :
राज्य की नीति है राज्य नीति, बदल गया नाम हुवा युद्ध नीति-
कोन है यहाँ सच्चा नेता ,किसको कहे अच्छा या बुरा-
किसमें है नेतृत्व का गुण जीतेगा कोन जनता का मन-
जन तंत्र की है माग क्या बताएगा कोन-
कोन है जो वादा करते नहीं ,कोन है जो निभाते सही-
धरा पुकारे चीख यहाँ ,दिया कोन उसको नाम यहाँ...

Posted on: Apr 01, 2017. Tags: RAVI VERMA

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download