राज्य की नीति है राज्य नीति, बदल गया नाम हुवा युद्ध नीति...कविता

मालीघाट ,जिला-मुजफ्फरपुर (बिहार) से रवि कुमार वर्मा एक कविता सुना रहे है :
राज्य की नीति है राज्य नीति, बदल गया नाम हुवा युद्ध नीति-
कोन है यहाँ सच्चा नेता ,किसको कहे अच्छा या बुरा-
किसमें है नेतृत्व का गुण जीतेगा कोन जनता का मन-
जन तंत्र की है माग क्या बताएगा कोन-
कोन है जो वादा करते नहीं ,कोन है जो निभाते सही-
धरा पुकारे चीख यहाँ ,दिया कोन उसको नाम यहाँ...

Posted on: Apr 01, 2017. Tags: RAVI VERMA

मेरा बिहार, मेरा बिहार, मेरा बिहार...बिहार राज्य गीत

रवि वर्मा मालीघाट जिला-मुजफ्फरपुर (बिहार ) से उनके राज्य बिहार पर एक गीत सुना रहे हैं:
मेरा बिहार, मेरा बिहार, मेरा बिहार-
ये बिहार है इसकी माटी-
चन्दन की पावन है-
ये बिहार है इसकी माटी...

Posted on: Dec 17, 2016. Tags: RAVI VERMA

चांदी की नदिया सोने का पर्वत...बिहार गीत

मालीघाट, जिला-मुजफ्फरपुर (बिहार) से रवि वर्मा एक बिहार गीत सुना रहे हैं:
चांदी की नदियाँ सोने का पर्वत-
नीलम का मेरा बिहार-
ऊपर पहाड़ हैं दक्षिण पठार हैं-
समतल में गंगा और गंडक की धार हैं-
जगह-जगह, जगह-जगह-
जंगल हैं गांवो में मंगल हैं-
उपवन में मस्ती बहार हैं-
नीलम का मेरा बिहार...

Posted on: Oct 03, 2016. Tags: RAVI VERMA

जो कानों में मधुरस घोले वो गीत सुनाते चले चलो...कविता

रवि वर्मा जिला-मुजफ्फरपुर,(बिहार) से एक स्वरचित कविता सुना रहे हैं:
जो कानों में मधुरस घोले वो गीत सुनाते चले चलो-
नफरत की दीवार तोड़कर कदम बढ़ाते चले चलो-
भेदभाव के बंधन तोड़ो, बुरी बात से मुखड़ा मोड़ो-
सबकी पीड़ा हरते जाओ मन से मन का नाता जोड़ो-
रूठों को भी गले लगाकर उनको अपनाते चले चलो-
नफरत की दीवार...
पूरे मन से करो पढाई इसमें ही है खूब भलाई-
बीता समय न मुड़कर आता लाभ उठाने में चतुराई-
नफरत की दीवार...

Posted on: Jun 11, 2016. Tags: RAVI VERMA

जो कानों में मधुरस घोले वे गीत सुनाते चले चलो...प्रेरक गीत

किलकारी बालकेंद्र, जिला-मुजफ्फरपुर, बिहार से रवि वर्मा एक गीत प्रस्तुत कर रहे हैं:
जो कानों में मधुरस घोले वे गीत सुनाते चले चलो-
नफरत की दीवार तोड़कर कदम बढ़ाते चले चलो-
भेदभाव के बंधन तोड़ो बुरी बात से मुखड़ा मोड़ो-
ये पीड़ा सबकी पीड़ा हरते जाओ मन से मन का नाता जोड़ो-
रूठों को भी गले लगाकर उनको अपनाते चले चलो-
नफरत की दीवार तोड़कर कदम बढ़ाते चले चलो-
पूरे मन से करो पढ़ाई इसमें ही है खूब भलाई-
बिता समय न मुड़कर आता लाभ उठाने में चतुराई-
मेहनत का फल मीठा होता मेहनत करते चले चलो-
नफरत की दीवार तोड़कर कदम बढ़ाते चले चलो...

Posted on: Mar 27, 2016. Tags: RAVI VERMA

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download