सब की तबडीया रे निमुआ भैईले पतनार रे...विवाह गीत

मालीघाट, जिला-मुजफ्फरपुर (बिहार) से रवि वर्मा विवाह के समय में गाया जाने वाला एक गीत सुना रहे हैं :
सब की तबडीया रे निमुआ भैईले पतनार रे-
अरे बरम बाबा के बेरिया रे निमुआ-
हम न जनली रे निमुआ होवबे पतझार रे-
रुपती अनार रे जोरी से काटत निमुआ-

सब की तबडीया रे निमुआ भैईले पतनार रे...

Posted on: May 19, 2017. Tags: RAVI VARMA

सत्यमेव, सत्यमेव सत्यमेव जयते बोलो,बोलो सत्यमेव जयते...देशभक्ति गीत

रवि वर्मा,मालीघाट, मुजफ्फरपुर-बिहार से एक देशभक्ति गीत सुना रहे हैं:
सत्यमेव, सत्यमेव सत्यमेव जयते बोलो,बोलो सत्यमेव जयते-
तीन रंग के चोले पहनकर वीरो ने रास रचाई-
हिन्दू,मुस्लिम,सिख इसाई कूद पड़े सब भाई-
अपने हाथ में तिरंगा लेकर सब बोल पड़े सत्यमेव,सत्यमेव, सत्यमेव जयते-
डोली आई ब्याह रचाकर, साथ लाये साजन-
उसी समय चल दिए वीर,जो लौट कर फिर ना आये-
सुहाग की कुर्बानी देकर बोल पड़े सबसे सत्यमेव,सत्यमेव जयते-
सत्यमेव,सत्यमेव सत्यमेव जयते बोलो,बोलो सत्यमेव जयते-
चंद्रशेखर आजाद,भगतसिंह, लाला राजपत राय-
बक्तेश्वर,खुदीराम बोस ने क्रान्ति ज्योति जलाये-
फासी के तख्ते पर चढ़ कर बोल पड़े सबसे, बोलो,बोलो सत्यमेव जयते...

Posted on: Feb 27, 2017. Tags: RAVI VARMA

विश्व शान्ति के लिए जीयेंगे हम, विश्व शान्ति के लिए मरेंगे हम...

रवि वर्मा, मालीघाट, मुजफ्फरपुर, बिहार से एक देशभक्ति गीत सुना रहे हैं :
विश्व शान्ति के लिए जीयेंगे हम-
विश्व शान्ति के लिए मरेंगे हम-
विश्व शान्ति के लिए, जियेंगे हम,जियेंगे हम-
विश्व शान्ति के लिए, लंडेगे हम,जियेंगे हम-
अब कोई हिरोशिमा बने नही-
किसी के हाथ खून से सजे नही-
अब कोई हिरोशिमा बने नही, बने नही-
किसी के हाथ खून से सजे नही, सजे नही-
प्रेम से घ्रणा को जित लेंगे हम-
प्रेम विसे घ्रणा को जित लेंगे हम-
विश्व शान्ति के लिए, जियेंगे हम-
विश्व शान्ति के लिए, मरेंगे हम-
रंग,नस्ल,भाषा,भेद क्यों रहे-
ऐ जाति,धर्म, क्षेत्र भेद क्यों रहे-
रंग,नस्ल,भाषा, भेष क्यों रहे-
ऐ जाति,धर्म, क्षेत्र भेद क्यों रहे,क्यों रहे-
भेद ये मिटेंगे या मिटेंगे हम-
विश्व शान्ति के लिए, जीयेंगे हम-
विश्व शान्ति के लिए, मरेंगे हम-
विश्व शान्ति के लिए, जियेंगे हम,जियेंगे हम-
विश्व शान्ति के लिए, लंडेगे हम,जियेंगे हम...

Posted on: Feb 24, 2017. Tags: RAVI VARMA

यह है मेरा हिंदुस्तान, मेरे सपनों का जहान...देशभक्ति कविता

रवि वर्मा, मालीघाट, मुजफ्फरपुर-बिहार से एक देशभक्ति कविता सुना रहे हैं:
यह है मेरा हिंदुस्तान, मेरे सपनों का जहान-
इससे प्यार मुझको, यह है मेरा हिंदुस्तान – हसता, गाता जीवन इसका मौसम चाहे-
गंगा यमुना की लहरों में, सात सुरों के संगम-
सा नी ध प म ग रे सा, सा नी ध प म ग रे सा-
ताज, एलोरा जैसे सुन्दर सब तस्वीरों के एलबम-
इससे प्यार है, मुझको,यह है मेरा हिंदुस्तान...

Posted on: Feb 24, 2017. Tags: RAVI VARMA

मानो तो मैं गंगा माँ हूँ, न मानो तो बहता पानी...गंगा गीत

मालीघाट, जिला-मुजफ्फरपुर (बिहार) से रवि वर्मा एक गंगा माँ का गीत सुना रहे हैं :
मानो तो मैं गंगा माँ हूँ, न मानो तो बहता पानी-
ये सुर वर धरती को मैं प्यार बुझी निशानी-
मानो तो मैं गंगा माँ हूँ, न मानो तो बहता पानी...

Posted on: Feb 19, 2017. Tags: RAVI VARMA

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download