रुको बच्चो रुको, सड़क पार करने से पहले रुको...कविता

मालीघाट, जिला-मुजफ्फरपुर (बिहार) से रवि वर्मा एक कविता सुना रहे है:
रुको बच्चो रुको, सड़क पार करने से पहले रुको-
तेज़ रफ्तार से जाती इन, गाड़ियों को गुजर जाने दो-
वो जो सर्र से जाती, सफ़ेद कार में गया-
उस अफसर को कही, पहुँचने की कोई जल्दी नहीं है-
वो १२ या कभी-कभी तो, इसके बाद भी पहुँचता है अपने विभाग में-
दिन महीने या कभी-कभी तो बरसों लग जाता है-
उसकी टेबल पर रखी, जरुरी फ़ाईल को खिसकने में-
रुको बच्चों रुको, उस न्यायधिश की कार को निकल जाने दो...

Posted on: May 05, 2018. Tags: RAVI VARMA

घुमानी मितवा हों ओ घुमनी मितवा हो...देशभक्ति गीत

ग्राम-मिथनपुरा, जिला-मुजफ्फरपुर (बिहार) से रवि वर्मा एक देशभक्ति गीत सुना रहें है:
घुमानी मितवा हों ओ घुमानी मितवा हो-
हमर देश सबके घुमान देश बा गुमान मित बा-
सा रे गा सा गरे गा सारे गमा गमा गमा परे सारे-
धन्य भईले धरती और इन सबके माई-
यहाँ भईल लखन भरत जइसन भाई-
एक भाई संत गुजाड़ी देने बसाई...

Posted on: Oct 26, 2017. Tags: RAVI VARMA

हम सब भारतीय है, हम सब भारतीय है...देशभक्ति गीत

मालीघाट, जिला-मुजफ्फरपुर (बिहार) से रवि वर्मा एक गीत सुना रहे है:
हम सब भारतीय है, हम सब भारतीय है-
अपनी मंजिल एक है हा हा एक है-
कश्मीर की धरती रानी है शरताज हिमालय है-
सदियों से हमने इसको अपनी फूल से पाला है-
देश सुरक्षा के खातिर हम सब सिर झुका लेंगे-
बिखरे-बिखरे तारे है हम एक है-
हम सब भारतीय है, हम सब भारतीय है...

Posted on: Oct 17, 2017. Tags: RAVI VARMA

सब की तबडीया रे निमुआ भैईले पतनार रे...विवाह गीत

मालीघाट, जिला-मुजफ्फरपुर (बिहार) से रवि वर्मा विवाह के समय में गाया जाने वाला एक गीत सुना रहे हैं :
सब की तबडीया रे निमुआ भैईले पतनार रे-
अरे बरम बाबा के बेरिया रे निमुआ-
हम न जनली रे निमुआ होवबे पतझार रे-
रुपती अनार रे जोरी से काटत निमुआ-

सब की तबडीया रे निमुआ भैईले पतनार रे...

Posted on: May 19, 2017. Tags: RAVI VARMA

सत्यमेव, सत्यमेव सत्यमेव जयते बोलो,बोलो सत्यमेव जयते...देशभक्ति गीत

रवि वर्मा,मालीघाट, मुजफ्फरपुर-बिहार से एक देशभक्ति गीत सुना रहे हैं:
सत्यमेव, सत्यमेव सत्यमेव जयते बोलो,बोलो सत्यमेव जयते-
तीन रंग के चोले पहनकर वीरो ने रास रचाई-
हिन्दू,मुस्लिम,सिख इसाई कूद पड़े सब भाई-
अपने हाथ में तिरंगा लेकर सब बोल पड़े सत्यमेव,सत्यमेव, सत्यमेव जयते-
डोली आई ब्याह रचाकर, साथ लाये साजन-
उसी समय चल दिए वीर,जो लौट कर फिर ना आये-
सुहाग की कुर्बानी देकर बोल पड़े सबसे सत्यमेव,सत्यमेव जयते-
सत्यमेव,सत्यमेव सत्यमेव जयते बोलो,बोलो सत्यमेव जयते-
चंद्रशेखर आजाद,भगतसिंह, लाला राजपत राय-
बक्तेश्वर,खुदीराम बोस ने क्रान्ति ज्योति जलाये-
फासी के तख्ते पर चढ़ कर बोल पड़े सबसे, बोलो,बोलो सत्यमेव जयते...

Posted on: Feb 27, 2017. Tags: RAVI VARMA

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download