आलसी आदमी चैन से सोते जी...छत्तीसगढ़ी कविता -

ग्राम-देवरी, पोस्ट-चंदोरा, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से रामविलास पोया छत्तीसगढ़ी बोली में एक कविता सुना रहा है:
आलसी आदमी चैन से सोते जी-
मेहनती मन बर तोहर कहा होते जी-
घाटा सही के कबहू होवत होई प्रेम हा-
बिना फ़ायदा के व्यापार कहा होते जी-
होई ला मिलते जेखर करम से-
किस्मत मा लिखाये हे-
सबो के भाग मा प्यार कहा होते जी...

Posted on: Apr 19, 2017. Tags: RAMVILAS POYA

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download