5.6.31 Welcome to CGNet Swara

चलो भिनसारे की निदिया हो मोर महुआ उजर गए...बघेली लोकगीत

ग्राम+पोस्ट-उलहीखुर्द, जिला-रीवा (मध्यप्रदेश) रमेश कुमार गुप्ता एक बघेली लोकगीत सुना रहे हैं :
चलो भिनसारे की निदिया हो मोर महुआ उजर गए-
महुआ उजर गए मोर महुआ उजर गए-
सास सोवे घरमा ससुर सोवे घर मा-
चलो भिनसारे की निदिया हो मोर महुआ उजर गए...

Posted on: Feb 13, 2018. Tags: RAMESH KUMAR GUPTA

दिव्यांगो को SC,ST,OBC में ना रखकर एक अलग दिव्यांग विभाग बना दें तो बेहतर होगा...

ग्राम,पोस्ट-उलहीखुर्द जिला-रीवा (मध्यप्रदेश) से रमेश कुमार गुप्ता दृष्टिबाधित
हैं उन्होंने यमुना प्रसाद शास्त्री नेत्रहीन विद्यालय में अपनी हायर सेकेंड्री की पढाई पूरी कर महाकौशल विद्यालय जबलपुर में राजनीती विज्ञान विषय से एम ए की पढ़ाई कर रहे हैं वे अपना विचार व्यक्त करते हुए कह रहे है कि सरकार द्वारा दिव्यांग जो विधेयक पारित किया गया है अच्छा है लेकिन दिव्यांगो को SC,ST,OBC कटेगरी में ना करके यदि एक दिव्यांग विभाग बना दिया जाए जैसे सामाजिक न्याय विभाग के अंतर्गत आने वाला काम उसी विभाग में होता है इसी प्रकार उनके के लिए अलग विभाग बनाया जाए जिससे दियांगो का विकास हो सके | रमेश@9770835941.

Posted on: Feb 06, 2018. Tags: RAMESH KUMAR GUPTA

दिव्यान्गों की मांग पर सरकार ने 3 माह का समय माँगा, मांग न मानने पर फिर हड़ताल करेंगे...

ग्राम, पोस्ट-उलही खुर्द, जिला-रीवा (मध्यप्रदेश) से रमेश कुमार गुप्ता बता रहे हैं दिसंबर माह से भोपाल में दिव्यांगो द्वारा धरना प्रदर्शन किया गया था जिसमे पहले शांतिपूर्ण आंदोलन हुआ लेकिन जब सरकार द्वारा कोई सुनवाई नहीं हुई तब एक दिवसीय क्रमिक भूख हड़ताल, कैंडिल मार्च और सद्बुद्धि यज्ञ किया गया पर उसके बाद मुख्यमंत्री को विज्ञापन सौपने गए तब गिरफ्तारी करा दी गई. अंततः ग्रामीण विकास मंत्री गोपाल भार्गव द्वारा उनकी सुनवाई की गई जिसमे 3 महीने का समय माँगा गया है लेकिन यदि उनकी मांगे पूरी नही होती है तो मजबूरन उन्हें पुन: आंदोलन शुरू करना होगा | रमेश कुमार गुप्ता@9770835941.

Posted on: Feb 04, 2018. Tags: RAMESH KUMAR GUPTA

कोऊ कहे लाल बत्ती जलत वे...बघेलखंडी लोकगीत

ग्राम-पोस्ट-उलहिखुद, तहसील-मनगवां, जिला-रीवा (मध्यप्रदेश) से रमेश कुमार गुप्ता एक गीत सुना रहे हैं,इस गीत में वे ये बताना चाहते हैं कि सन दो हजार आठ में मुंह नचवा की कहानी फैलाई गयी थी जो बिलकुल झूठ थी वे इसके बारे में गीत के माध्यम से बता रहे हैं:
कोऊ कहे लाल बत्ती जलत वे-
मोहू खाए लिहिस मोहू नचाओ मोहुस बै ना दे-
मोऊ नचवावो आँसों के साल जैसे दुर्गा बिराजन-
हाँ तबसे नहीं आबा मोहू नचवाओ-
मोहे खाए लिहिस मोहों नचवाओ-
हो बुढ़व लाठी लेके ईतिन-
अब कभाऊ ना आई मोहू नचवाओ-
मोहू खाए लिहिस मोंहू नचवाओ-
हाँ ठाकुर का ठकुराइन खाइन-
अरे सुबचा सबको लिसोचवाओ-
मोहों खाए लिहिस मोंहों नचवाओ...

Posted on: Nov 18, 2016. Tags: RAMESH KUMAR GUPTA

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download


From our supporters »