स्वास्थ्य स्वर : मठा सेवन करने के फायदे-

सेतगंगा, जिला-मुंगेली (छत्तीसगढ़) से वैद्य रमाकांत सोनी मठा के गुड़ो के बारे में
बता रहे हैं| मठा का सेवन करने से वमन, जी मचलाना, पीलिया रोग, मोटापा, बवासीर जैसी समस्याओं में आराम मिलता है| लोग आज के समय में फैसन के चक्कर में बाजार में मिलने वाले तरह-तरह के कोलड्रिंक पेय का उपयोग करते हैं| उसके जगह मठा का सेवन कर लाभ ले सकते हैं| अधिक जानकारी के लिये संपर्क कर सकते हैं :
रमाकांत सोनी@9598906028.

Posted on: Jun 23, 2019. Tags: CG HEALTH MUNGELI RAMAKANT SONI

स्वास्थ्य स्वर : अखरोट के लाभकारी गुण-

सेतगंगा, जिला-मुंगेली (छत्तीसगढ़) से वैद्य रमाकांत सोनी अखरोट के लाभकारी गुणों के बारे में बता रहे हैं| अखरोट का सेवन दिल के लिये बहुत लाभकारी है| यह फल हिमांचल प्रदेश के 5 से 10 हजार फीट की ऊंचाई पर पाए जाते हैं| यह फल कई गुणों से परिपूर्ण होता है| कोलेस्ट्राल की समस्या को दूर करने में यह उपयोगी है| दवा के स्थान पर इसका सेवन करें| अखरोट वजन कम करने में भी लाभकरी है| जो साकाहारी है, उन्हें अखरोट का सेवन करना चाहिये| संबंधित जानकारी के लिये संपर्क कर सकते हैं : रमाकांत सोनी@9589906028.

Posted on: Jun 08, 2019. Tags: CG HEALTH MUNGELI RAMAKANT SONI

स्वास्थय स्वर: मांस का प्रयोग करने से गठिया, क्षय , लीवर खराब होना, सूजन, पीलिया, ह्रदय रोग, हैजा, विभ

श्वेत गंगा, जिला-मुंगेली (छत्तीसगढ़) से रमा कान्त सोनी मांसाहार के बारे में बता रहे हैं: मांस खाने से अनेक तरह के बिमारी फैलती है| मांस भक्षण से शरीर में अनेक तरह के बिमारी जैसे गठिया, क्षय , लीवर खराब होना, सुजन, पीलिया, ह्रदय रोग, हैजा, मानसिक तनाव, आदि विभिन्न्य रोग पैदा होते हैं|मांस भोजन से मनुष्य के अन्दर दया-करुणा का भाव पैदा न होकर द्वेष, दुर्व्यवहार पैदा होता है |आज विश्व भर के सभी जाति,समूह मांस भक्षण के महत्व को समझने लगे हैं |सद्बुद्धि प्राणी शाकाहारी को जीवन प्राणी को ही सुरक्षित एवं उचित मानती है |छोटे बच्चों को मांस का भोजन कराने से सूक्ष्म आयु और दुर्बलता होते हैं |उनके लिए शाकाहारी भोजन ही उचित होता है|रमाकांत सोनी@9589906028.

Posted on: May 19, 2019. Tags: CG HEALTH MUNGLI RAMAKANT SONI

यग्य-हवन से प्राकृतिक पर्यायवरण शुद्ध होता है...

श्वेत गंगा, जिला-मुंगेली, (छत्तीसगढ़) से रमाकांत सोनी यग्य हवन से होने वाले फायदे के बारे में बता रहा है: भारतीय संस्कृति में हवन,यग्य, कर्म, केवल धार्मिक परम्परा के लिए नही है, इसका मूल उद्देश्य पर्यावरण तथा सेहत की रक्षा के लिए है| इसके धुएं से न सिर्फ पर्यावरण शुद्ध होता है, बल्कि सारे जगत के प्राणी भी अन्य बीमारियों से भी सुरक्षित रहते हैं, मौलश्री,खैरतला, के हवन से वायु शुद्ध होता है|मेहदी की लकड़ी जलाने से घर में महामारी के फैलने की आशंका दूर होती है| यग्य-हवन से इतनी शक्तियां प्राप्त होती है की संक्रामक जैसे बीमारियों से छुटकारा मिलती हैऔर विषाणुओं से मुक्त करती है|रमाकांत सोनी@9589906028.

Posted on: May 18, 2019. Tags: ) CG MUNGELI RAMAKANT SONI

स्वास्थय स्वर: गाय के घी के औषधि उपयोग...

श्वेतगंगा, जिला-मुंगेली, (छत्तीसगढ़) से रमाकांत सोनी गाय के घी के उपयोग बता रहे हैं: गाय के घी गुणों में सबसे श्रेष्ठ है| यह नेत्र ज्योति वर्धक एवं शरीर के लिए बहुत उपयोगी है, इसके घी जितना पुराना होता है उतना ही प्रभावी गुण वाला होता है| गाये के दूध, दही, मक्खन, के उत्तम प्रभाव के करन भारतीय भोजन में अभिन्न्य है| पर्यायवरण अशुद्धि के लिए इसके घी के साथ कई औषधि मिलाकर यग्य-हवन किया जाता है, गौरतलब है कि घी शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ती है,खाने के अलावा गाय के घी को पोषक और स्‍वास्‍थ्‍यवर्द्धक फायदों के लिए भी जाना जाता है|गाय का घी स्‍वादिष्‍ट और सुगन्‍धित होने के साथ-साथ वजन नियंत्रित करने के लिए बहुत उपयोगी होता है |रमाकांत सोनी@9589906028.

Posted on: May 18, 2019. Tags: CG HEALTH MUNGELI RAMAKANT SONI

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download