काबर भूला रे आदिवासी मन, गोंडी धर्म इतिहास...गीत-

ग्राम-चंद्रेली, पोस्ट-मसदा, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से राजकुमार आयाम एक गोंडवाना गीत सुना रहे हैं :
काबर भूला रे आदिवासी मन, गोंडी धर्म इतिहास-
धर्म हवे पिता, भाषा हवे माँता, सुनके अमल कर ले-
माँता पिता कर सेवा ला भुलागे, धर्म ला छोड़े तोरे धन हा सिरागे-
काबर भूला रे आदिवासी मन, गोंडी धर्म इतिहास-
धर्म हवे पिता, भाषा हवे माँता, सुनके अमल कर ले...

Posted on: Nov 11, 2019. Tags: CG RAJKUMAR AYAM SONG SURAJPUR

मिल जुली रहब ये जमाना में, तबे बढ़ब आगे-आगे...गीत...

ग्राम-चंद्रेली, पोस्ट-मसगा, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से राजकुमार आयाम एक गोंडवाना गीत सुना रहे हैं :
मिल जुली रहब ये जमाना में, तबे बढ़ब आगे-आगे-
ईहा कर आदिवासी हवें कर मूलनिवासी-
सरखो हे गोत्र हमर करले गा चिन्हारी-
मिल जुली रहब ये जमाना में तभे बढ़ाबे आदिवासी-

Posted on: Sep 01, 2019. Tags: CG RAJKUMAR AYAM SONG SURAJPUR

नान पन के रानी नान पन के फुले हवे आज फूल बन के...ददरिया गीत

ग्राम-चंद्रेली, पोस्ट-मसगा, तहसील+थाना-प्रतापपुर, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से राजकुमार आयाम एक ददरिया गीत सुना रहे है:
नान पन के रानी नान पन के फुले हवे आज फूल बन के-
तोर मोर माया फुलवारी रे माया देदे माया लेले संगवारी रे-
नान पन के रानी नान पन के फुले हवे आज फूल बन के-
डारा रें डारा जामुन के डारा रे तोर रूप दिखथे रानी-
तोर मोर माया फुलवारी रे माया देदे माया लेले संगवारी रे-
नान पन के रानी नान पन के फुले हवे आज फूल बन के...

Posted on: Aug 29, 2018. Tags: CHHATTISGARH DADARIA RAJKUMAR AYAM SONG SURAJPUR SURGUJIHA

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download