नीमियां के पेढवा चौतरवा निशानी पै केकर बेटी सावन मा ससुरवा: सावन गीत

रींवा (म.प्र.) से फूलकली आदिवासी एक सावन गीत सुना रही हैं:
नीमियां के पेढवा चौतरवा निशानी
पै केकर बेटी सावन मा ससुरवा, हरे शामलिया
माया जो होती तो अनती-बोलउती, पै पापा जी के कठिन कलेजवा,
हरे शामलिया पै पापा जी के कठिन कलेजवा....
चाची जो होती तो अनती-बोलउती,
पै चाचा जी के कठिन कलेजवा, हरे शामलिया
नीमियां के पेढवा चौतरवा निशानी
पै केकर बेटी सावन मा ससुरवा, हरे शामलिया
भाभी जो होती तो अनती-बोलउती,
पै भइया जी के कठिन कलेजवा, हरे शामलिया
नीमियां के पेढवा चौतरवा निशानी
पै केकर बेटी सावन मा ससुरवा, हरे शामलिया

Posted on: Aug 12, 2014. Tags: Phookali

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download