आगे कलयुग के जमाना सतयुग होगे रवाना: गीत...

ग्राम-टांकीटोला, जिला डिंडौरी, मध्यप्रदेश से पतिराम मार्को पहले के युग एवं वर्तमान युग की तुलना करते हुए गीत सुना रहे हैं :
आगे कलयुग के जमाना सतयुग होगे रवाना बेईमानी छागे-
बेईमानी छागे हे राम बदलगे जमाना बेईमानी छागे रे-
आज काल के टुरी पहिने ला साया साड़ी बिलाउज अध्धा राम-
बिलाउज अध्धा हे राम मुड़े म लाली फीता किलिप के झोफा रे-
आज काल के टूरा पहिरे ला जूता मोजा अंग्रेजी बोलैय-
अंग्रेजी बोलय हे राम जब घर म डैकी आवे ता भीतर ले बोलय रे-
आज काल के डोकरी मुड़े म बह के लकरी चमकत जावे राम-
चमकत जावे हे राम धर लीं हे दू थान कथरी सुख नींद सोवे रे...

Posted on: Dec 03, 2016. Tags: PATIRAM MARKO

खेती काम करियाबो रे खेती काम करियाबो रे...खेती गीत

ग्राम टांकीटोला जिला- डिंडौरी, मध्यप्रदेश से पतिराम मार्को एक खेती गीत सुना रहे है:
खेती काम करियाबो खेती काम करियाबो रे-
लहर लहर लहराही धान गा खेती काम करियाबो रे-
खेती काम करियाबो खेती काम करियाबो रे-
लहर लहर लहराही धान गा खेती काम करियाबो रे-
नांगर डोले बैला डोले अर डोले जोतैया रे भैया अर डोले जोतैया-
नांगर डोले बैला डोले अर डोले जोतैया रे भैया अर डोले जोतैया-
हाथ ले पैनारी गिरगे झोंकले निन्दैया राम खेती काम करियाबो रे-
लहर लहर लहरावे धान गा खेती काम करियाबो रे...

Posted on: Nov 30, 2016. Tags: PATIRAM MARKO

हयेगा राम जाथे बनवास राम जाथे बनवास...करमा गीत

ग्राम पंचायत-टाटीटोला, पोस्ट-लालपुर, जिला-डिंडौरी, मध्यप्रदेश से,पतिराम मार्को एक करमा गीत सुना रहे हैं, इस करमा गीत को युवक और युवती मिलकर के गाते हैं:
ओ ओ ओ ओ ओ...हो हो हो हो हो-
हयेगा राम जाथे बनवास राम जाथे बनवास-
सीता का है राम पति हा महू ला लेजा रे-
हाय गा जाथे बनवास-
भीतर रोये माता कौशिल्या,बाहर भारत भाई-
राजा दशरत प्राण त्याग हे, केकई पछताई-
हयेगा राम जाथे बनवास राम जाथे बनवास...

Posted on: Nov 18, 2016. Tags: PATIRAM MARKO

डोंगर जाबो डोंगर जाबो डोगर जाबो रे...सैला गीत

ग्राम-टाटीतोला, पोस्ट-लालपुर, जिला -डिंडौरी मध्यप्रदेश से पति राम मार्को एक सैला गीत सुना रहे है, ये गीत मध्यप्रदेश में निवास करने वाले गोंड जनजाति के लोग दशहरा, दीपावली, नवाखाई के अवसर पर गाया करते है । कहा जाता है की आदि देव गधेसुर अपने महारानी से अप्रसन्न होकर अमरकंटक चले गए थे जिसे मनाने के लिए इस गीत को गाने का चलन है:
डोंगर जाबो डोंगर जाबो डोगर जाबो रे-
मोरे साजा के बिरछा डोंगर जाबो रे-
राम लाग्यो न रामे लगायो न बड़ा देवता रे...

Posted on: Nov 05, 2016. Tags: PATIRAM MARKO

दशहरा के समय बजाये जाना वाला बासुरी, मांदर और टिमकी का आदिवासी करमा धुन...

कर्नाटक राज्य के मैसूर से पतिराम मार्को और उनके साथ रूपसिंह मरावी, बेलसिंह धुर्वे और प्रीतम सिंह बासुरी मांदर और टिमकी की एक धुन सुना रहे हैं | ये सभी साथी मध्यप्रदेश के मंडला और डिंडोरी जिले से हैं और इस समय एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए इन दिनों कर्नाटक राज्य के मैसूर में हैं और वहां से ये साथी एक आदिवासी करमा की धुन सुना रहे हैं जिसे आदिवासी इलाकों में दशहरा के समय बजाया जाता है । पतिराम मार्को@8349976551

Posted on: Oct 01, 2016. Tags: PATIRAM MARKO

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download