स्वागत स्वागत है अतिथि की स्वागत है...गीत-

पारस कुमार यादव एक स्वागत गीत सुना रहे हैं:
स्वागत-स्वागत है अतिथि की स्वागत है-
फूलो की हार अतिथि को पहनायें-
उनके मन में प्यार के दीप जलायें-
मौसम बड़ा पुराना है दिल कितना मस्ताना है-
चाहते हैं क्या अशीष दुआ वातावरण पुलकित हुआ-
फूलो की भांति खिला रहे आनंद आपके दर्शन पाके पुलकित हो गया मन-
स्वागत-स्वागत है अतिथि की स्वागत है...

Posted on: Feb 14, 2020. Tags: PARASH YADAV SONG

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download