कहां गए ममता भरे दिन, कैसे कोई जिए माँ तेरे बिन...

ग्राम-किलेपार, विकासखंड-चारमा, जिला-कांकेर, छत्तीसगढ़ से ओमलता नायक जी माँ की ममता पर एक गीत प्रस्तुत कर रही हैं :
कहां गए ममता भरे दिन, कैसे कोई जिए माँ तेरे बिन – वो माँ ढूंढे मैं कहाँ ! माँ आखिर माँ होती हैं माँ – हाथो से खिलाया झूलो में झुलाया – माँ की परछाई है, मेरा भाई – भला दुनिया में माँ की जगह कौन ले सका – कहां गए ममता भरे दिन – तू हमारा वीर है, ये भी तकदीर है – बहनों की राखी चूमे, भइया की कलाईयां – दुःख क्या पता नहीं, गम क्या पता नहीं – तेरे साये में माँ की, छाया भी मिली नहीं – आंसू क्या पता नहीं, दर्द क्या पता नहीं – तेरे आँगन में कलियां भी फूल सी खिली हैं – माँ की परछाई है, मेरा तू भाई है – कौन भला दुनिया में माँ की जगह ले सका – कोई कह दे,क्या होती हैं माँ – कहां गए ममता भरे...

Posted on: Jan 15, 2015. Tags: Omlata Nayak

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download