पगा मन्दा जीजा निसंग बाजार अना दाकट...गोंडी सामाजिक गीत

ग्राम-आलमपुर,पोस्ट-पाटाखेड़ा, तहसील व जिला- बैतूल, म.प्र. से नीलम यादव एक गोंडी गीत प्रस्तुत कर रही हैं. गीत में जीजा-शाली के रिश्ते और अधिकारों की बात की जा रही है. शाली अपने जीजा से कहती है कि मैं आपके साथ बाजार घुमने चलूंगी :
पगा मन्दा जीजा निसंग बाजार अना दाकट-
ये नवा सांगन बेगा ओय लाता-
पगा मन्दा जीजा निसंग-
माथे ता बिंदिया, बिंदिया चमके माता लाता-
ये नवा संगन बेगा ओया लाता-
कहले ना हरवा, हरवा चमके मायो लाता-
ये नवा सांगन बेगा ओया लाता-
पगा मन्दा जीजा निसंग-
कमर ना पट्टा, पट्टा चमके मायो लाता-
ये नवा सांगन बेगा ओया लाता-
पगा मन्दा जीजा निसंग-

Posted on: May 06, 2015. Tags: Neelam Yadav

जागो-जागो री आदिवासी, हमरे गाँव के नौजवान...

ग्राम-आलमपुर, पोस्ट-पाटाखेड़ा, तहसील-चिचोली, जिला-बैतूल, (मप्र) से नीलम यादव जी एक युवा प्रेरणा गीत गा रही हैं:
जागो-जागो री आदिवासी, हमरे गाँव के नौजवान
जागो-जागो री आदिवासी, हमरे गाँव के नौजवान
जागो-जागो री आदिवासी...
जागो-जागो रे आदिवासी, हमरे गाँव के निवासी
हमरे गाँव के निवासी, हमरे गाँव के निवासी
जागो-जागो रे आदिवासी, हमरे गाँव के निवासी
जागो-जागो री आदिवासी...
अपने गाँव में, अपने गाँव में, होती पूरी फसल खेत-बाड़ी
जागो-जागो री आदिवासी...

Posted on: Sep 24, 2014. Tags: Neelam Yadav

बेगा मंदाल मिवा डेरा, भवानी मैया...गोंडी भक्ति गीत

ग्राम-आलमपुर, पोस्ट-पाटाखेड़ा, तहसील-चिचोली, जिला-बैतूल, मध्य प्रदेश से नीलम यादव जी एक गोंडी गीत गा रही हैं इस गीत में देवी भवानी माँ की स्तुति की गयी हैं:
बेगा मंदाल मिवा डेरा, भवानी मैया
बेगा मंदाल मिवा डेरा, भवानी मैया
सलकनपुर ता है निवा डेरा
बेगा मंदाल मिवा...
हाथ ते निवा, त्रिशूल हयु
हाथ ते निवा, त्रिशूल हयु
बेगा मंदाल मिवा...

Posted on: Sep 23, 2014. Tags: Neelam Yadav

भुरसारो डंगुर हंडाले, रोज-रोज डंगुर हंडाले...गोंडी महुआ गीत

ग्राम-आलमपुर, जिला-बैतूल (म.प्र.) से नीलम यादव जी एक गोंडी गीत गा रही हैं. जब महुआ बीनने के लिए सुबह-सुबह जंगल जाते हैं तब इस गीत को गाते हैं:
भुरसारो डंगुर हंडाले, रोज-रोज डंगुर हंडाले
ठंडो-ठंडो डंगुर डाले, हो यणबाई ठंडो-ठंडो डंगुर डाले
रोज-रोज डंगुर हंडाले, भुनसारो डोमरा पराले
डंगुर हंडाले हो यणबाई, रोज-रोज डंगुर हंडाले
ठंडो-ठंडो डंगुर डाले, हो यणबाई ठंडो-ठंडो डंगुर डाले..
चौडियानी कुचड़ी तिन्दाले, रोज-रोज डंगुर हंडाले
रोज-रोज डंगुर हंडाले, हो यणबाई ठंडो-ठंडो डंगुर डाले

Posted on: Jul 04, 2014. Tags: Neelam Yadav

बढ़ वाता जीरोडा बजी री बढ़ वाता हे...गोंडी विवाह गीत

ग्राम आलमपुर पोस्ट पाटाखेड़ा जिला बैतूल मध्य प्रदेश से नीलम यादव गोंडी विवाह गीत गा रही है:
बढ़ वाता जीरोडा बजी री बढ़ वाता हे
बाभी बाभी बड वाता जीरोडा बजी
बढ़ चमकेम आता री बढ़ चमकेम
आता माथे था बिंदिया बढ़ चमकेम आता
बढ़ जीरोडा बजी
बढ़ चमके आता री बढ़ चमकेम
आता कानोना झुमका बढ़
चमकेंम आता कानोना झुमका
बढ़ चमकेम आता री हाथो ना
कंगन बढ़ चमकेम आता
हाथो ना कंगन बढ़ चमकेम आता
बढ़ जीरोडा बजी

Posted on: Feb 15, 2014. Tags: Gondi Neelam Yadav

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download