ही कवना चरईया रे दहे गुंजारी गे सारो...नागपुरिया गीत

आश्रित-कुरूमगढ़, ग्राम पंचायत-बामदा, ब्लाक-चैनपुर, जिला-गुमला (झारखण्ड) से प्रभु यादव एक नागपुरिया भाषा में गीत सुना रहें है:
ही कवना चरईया रे दहे गुंजारी गे सारो-
कवना चरईया बोले राती गे सावरो-
हंसा चरईया रे दहे गुंजारी गे सारो-
मंजूरा चरईया बोले राती गे सारो-
ही केकर लागिन अंगना बिरिंदा भेले सावरो-
ही कवना चरईया रे दहे गुंजारी गे सारो...

Posted on: Jul 05, 2018. Tags: NAGPURIYA SONG PRABHU YADAV

« View Newer Reports

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download