कच्चे अनार चार दाना, सुगन लिए आवत होहिहे...बघेली गीत

ममता देवी प्रजापति ग्राम पंचायत-बसरेही, ब्लॉक-जवा, जिला-रीवा, मध्यप्रदेश से एक गीत सुना रही है:
कच्चे अनार चार दाना-
सुगन लिए आवत होहिहे-
द्वि रे सखि मिल जेमना बनायवं-
जेवथ है कृष्ण मुरारी-
द्वि रे सखि मिल जल भर लायों-
घुटत कृष्ण मुरारी-
द्वि रे सखी मिल वीरा लगायों-
रचत हैं कृष्ण मुरारी-
कच्चे अनार चार दाना-
सुगन लिए आवत होहिहे...

Posted on: Jul 01, 2016. Tags: Mamta Devi Prajapati

सखी कइसे धरौं मन धीर घरै न आये कन्हैया...बघेलखंडी पारंपरिक गीत

ममता देवी प्रजापति ग्राम पंचायत-बसरेही, ब्लॉक-जवा, जिला-रीवा,(मध्यप्रदेश) से एक बघेलखंडी पारंपरिक गीत बहनी दरबार की एक साथी से रिकार्ड करा रही है :
सखी कइसे धरौं मन धीर घरै न आये कन्हैया-
चैत मॉस फूली फुलवारी प्रीतम छोड़ दिए मोरे आसन-
मैं तो बैठी रहती मारी-
बैशखवा मा सुखले शरीर,घरै न आये...
जेठ मॉस बहे दिल चैना-
उसके मन में परै न चैना-
छाये-छाये गुजरिया के देश,घरै न आये...
अषढै मास घुमडि जल बरसै-
घर से निकल चले मोरे प्रीतम-
देखन वाले को जिया तरसे पापी जिया न माने-
घरै न आये...

Posted on: May 22, 2016. Tags: Mamta Devi Prajapati

आजा तोहरेनी पिंजडा से सघना तू वन मा फरार हो जाई...बघेलखंडी लोकगीत

ग्राम-बसरेही, ब्लाक-जवा, जिला-रीवा मध्यप्रदेश से ममता देवी प्रजापति एक बघेलखंडी लोकगीत सुना रही हैं:
आजा तोहरेनी पिंजडा से सुघना तू वन मा फरार हो जाई-
दादी दिहना या दुर्गा सा जन्म तू जन्म फरार हो जाई-
ममी दिहना या दुर्गा सा जन्म तू जन्म फरार हो जाई-
चाचा तोहरे नी पिंजडा से सुघना तू वन मा फरार हो जाई...

Posted on: May 13, 2016. Tags: Mamta Devi Prajapati

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download