ओ शिल्पी, ओ शिल्पी...गीत

ग्राम-छतरपुर, पोस्ट-गजराज, विकासखण्ड- घुगरी, जिला-मंडला (मध्यप्रदेश) से मोहन मरावी शिक्षक दिवस 5 सितम्बर को लेकर गीत सुना रहे है गीत के माध्यम से शिक्षक को शिल्पकार के रूप में देख रहे है:
ओ शिल्पी,ओ शिल्पी-
तुमको अपनी मूर्ति कला का रंग दिखाना है-
तुझे तो मूर्ति बनाना है, तुझे तो मूर्ति बनाना है-
सत्यम शिवम् सुन्दरम का, नव अलख जगाना है-
कितने अनपढ़ पत्थर तेरे पास, धरोवर है-
सुन्दर मूरत बनने को सब, कितने आतूर है-
अपनी मूर्ति कला से, सबको सुन्दर बनाना है-
विश्व विधाता में पूरा मनुष्य बनाये है-
किन्तु तुझको इनको सच्चा मनुष्य बनाना है-
ओ शिल्पी,ओ शिल्पी...

Posted on: Sep 09, 2017. Tags: MOHAN MARAWI

रनभन-रनभन हो मोर भुइया के देवता रनभन हो...जस गीत

ग्राम-छतरपुर, विकासखण्ड-घुघरी, जिला-मंडला (मध्यप्रदेश) से मोहन मरावी देवी जस गीत सुना रहे हैं यह गीत चैत नवरात्रि के अवसर पर गाया जाता है:
रनभन-रनभन हो-
मोर भुइया के देवता रनभन हो-
समार रे देवता रनभन-रनभन हो-
समार के दादा रनभन -रनभन हो – रनभन-रनभन होते बड़ा देव-
श्रृष्टि ला तारन हारा...

Posted on: Apr 07, 2017. Tags: MOHAN MARAWI

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download