गीत : सत्य मार्ग पर चलना सिखों, औरों का दुःख हरना सिखों...

ग्राम-राजापुर, जिला-निवाड़ी (मध्यप्रदेश) से मनोज कुशवाह एक गीत सुना रहे है
सत्य मार्ग पर चलना सिखों, औरों का दुःख हरना सिखों-
सिख डालो करना सम्मान, घट ना जाए, किसी का मान-
मानव वहीं है जो करे उपकार, नहीं तो है मानव अंगार-
जीवन के हर पल को समझों, औरों का है यह उपकार-
जहाँ भी जावो जीवन में कुछ, नाम कमावों-
सत्य मार्ग पर चलना सिखों, औरों का दुःख हरना सिखों...

Posted on: Nov 22, 2019. Tags: MANOJ KUSHWAH NIWARI MP

देश भक्ति गीत: भारत के वीर सपूतों, दुश्मन को मारों पीटो...

ग्राम-राजापुर, जिला-निवाड़ी (मध्यपरदेश) से मनोज कुशवाह एक भक्ति गीत सुना रहे है:
भारत के वीर सपूतों, दुश्मन को मारों पीटो-
दुश्मन है देश के दुश्मन, बन जाओं उनके दुश्मन-
दुश्मन आये तो आँखों से डरा तो-
दुश्मन आये तो गोली से उड़ा तो-
दुश्मन ने जब भी आँख उठाई, वीरो से खूब मार खाई-
भारत है प्राणों से प्यारा, दुश्मन को गोली से मारा-
माँता से जन्मों का नाता, दुश्मन को बाणों से मारा-
भारत के वीर सपूतों, दुश्मन को मारों पीटो...

Posted on: Nov 22, 2019. Tags: MANOJ KUSHWAH NIWARI MP SONG

काये के मानों माता समान...कविता-

ग्राम-राजापुर, पोस्ट-लडवारी, जिला-निवाड़ी (मध्यप्रदेश) से मनोज कुशवाहा एक कविता सुना रहे हैं :
काये के मानों माता समान-
उसी का करलो तुम सम्मान-
उसी का करलो तुम सम्मान-
माता बना देते पहले बान-
अमृत देते है वोह वरदान-
दूध होता होता है अमृत जैसा...

Posted on: Nov 04, 2019. Tags: MANOJ KUSHWAHA MP NIWADI POEM

देशभक्ति गीत : मेरे देश की माटी बन गई सोना-

ग्राम-राजापुर, पोस्ट-लडवारी, जिला-निवाड़ी (मध्यप्रदेश) से मनोज कुशवाहा देशभक्ति गीत सुना रहा है:
मेरे देश की माटी बन गई सोना-
दुल्हन सी लागे धरती हमारी-
प्राणों से प्यारी है माता धरती-
नदिया बहती कल-कल करते धरती-
माता के चरणों में रहके-
खेती के दिन पूजा जाता-
माता का दिल भर जाता-
भारत की धरती पर एकता हो जाते-
धन हो जाते, धन हो जाते-
अर्जुन कृष्णा राम की भूमि-
भारत की भूमि है स्वर्ग के सुन्दर-
इस पर जन्में मनु और मनिंदर...

Posted on: Oct 02, 2019. Tags: MANOJ KUSHWAHA NIWARI MP

तोता तोता दिया हुंकारा, अमर कथा न सुनी हुमायु, सोच रहे हुंकारा...गीत-

ग्राम-राजापुर, पोस्ट-लड़वारी, जिला-टीकमगढ (मध्यप्रदेश) से मनोज कुशवाहा एक गीत सुना रहे हैं:
तोता तोता दिया हुंकारा, अमर कथा न सुनी हुमायु-
सोच रहे हुंकारा-
अविनासी के नासी कासी अपनी अलख बताई थी-
बैठ गुफा में गोरा जी अमर कथा सुनाई थी-
आज यहां पर कोण तीसरा, गोरा इस वक्त आया है-
चढ़ा क्रोध जब शंकर जी को, कर त्रिशूल उठाया है...

Posted on: Mar 12, 2019. Tags: MANOJ KUSHWAHA MP SONG TIKAMGARH

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download