नई आवे पानी बरखा नई लागे नागर जुवा...गीत

ग्राम-पम्पानगर, ब्लाक-रामानुजनगर, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से मंगल सिंह गीत सुना रहे हैं :
नई आवे पानी बरखा, नई लागे नांगर जुवा-
चला भागा-भागा संगी रे, कोयला खदान-
खाए बिना झटकत हे प्राण-
अईसन जन सोचा भैया अब आई पानी बरखा-
अब होई धान नहीं जाए बरिक परी भैया कोइला खदान...

Posted on: Apr 15, 2017. Tags: MANGAL SINGH

नइ आवे पानी-बरखा, नई लागे नागर जुआ...सरगुजिहा लोकगीत

मंगल सिंह, ग्राम-पम्पानगर, जिला-सूरजपुर, छत्तीसगढ़ से एक गीत सुना रहे हैं :
नइ आवे पानी-बरखा, नई लागे नागर जुआ-
चला चला भागी संग रे कोइला खदान-
नई आवे पानी-बरखा, नई होवे धान-
चला चली भागी संगी रे कोइला खदान-
जिव्हा छटकथ प्राण-
चला चला भागी संगी रे कोइला खदान...

Posted on: Jun 19, 2016. Tags: Mangal Singh

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download