हाथी भालू दोनों मेल थे सता-सता खेल रहे थे...बाल कविता

ग्राम-तिर्कुंडा, तहसील-रामानुजगंज, जिला-बलरामपुर (छत्तीसगढ़) से मंदेश यादव एक कविता सुना रहे हैं :
हाथी भालू दोनों मेल थे-
सता-सता खेल रहे थे-
लुका छिपी खेल था-
हाथी बोला सुन रे भालू-
मैं छुपने जाता हूँ – पानी वाले जगह पर मिलूँगा...

Posted on: Jun 05, 2017. Tags: MANDES KUMAR YADAV

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download