मेरे परमेश्वर तू ही, कैसे जपूं नाम तेरा...भजन-

ग्राम-छुल्कारी, जिला-अनूपपुर (मध्यप्रदेश) से मंदाकनी मिश्रा एक भजन सुना रही हैं :
मेरे परमेश्वर तू ही, कैसे जपूं नाम तेरा-
काहे की धरती, काहे की अम्बर, काहेन के संसार-
दया की धरती, धरम का अम्बर, स्वार्थ का संसार-
काहे की नईया, कौन है खेवईया-
कैसे के लागब पार, कैसे जपूं नाम तेरा-
काठे की नईया प्रभु हैं खेवईया-
धरम से लगाब पार कईसे जपो नाम तेरा...

Posted on: Sep 21, 2018. Tags: ANUPPUR BHAJAN MANDAKNI MISHRA MP RELIGION SONG

महादेव कहे सुन पार्वती भंगिया मत देना गवारन को...भजन-

ग्राम-छुलकारी, जिला-अनूपपुर (मध्यप्रदेश) से मंदाकनी मिश्रा एक भजन सुना रही हैं :
महादेव कहे सुन पार्वती भंगिया मत देना गवारन को-
श्री राम की नगरी अयोध्या है, श्री कृष्ण की नगरी गोकुल-
महदेव के नगरी कैलाशपुरी भंगिया मत देना गवारन को-
महादेव कहे सुन पार्वती भंगिया मत देना गवारन को-
श्रीराम के पत्नी सीता है, श्री कृष्ण के पत्नी राधा है-
महादेव की पत्नी पार्वती भंगिया मत देना गवारन को-
श्री राम का भोजन वन फल है, श्री कृष्ण की भोजन माखन है...

Posted on: Jul 30, 2018. Tags: MANDAKNI MISHRA

हरे रामा पिया गये परदेश, ना आये पाती रे हरे...कजली विरह गीत-

ग्राम-छुलकारी, पोस्ट-पसला, जिला-अनूपपुर (मध्यप्रदेश) से मंदाकनी मिश्रा एक कजली गीत सुना रही हैं :
हरे रामा पिया गये परदेश, ना आये पाती रे हरे-
मोहे समझावें, समझावें ससुराल-
के बहु मोरो धरो ह्रदय में धीर ललन घर आएंगे हरे-
जेठा मोरी मोही समझावें, समझावें जेठी-
कि बहू मोरो धरो ह्रदय में धीर भईया घर आएंगे हरे-
ननदी मोरे मोही समझावें, समझावे ननादोई...

Posted on: Jul 27, 2018. Tags: MANDAKNI MISHRA

दो बहन रामा और श्यामा की कहानी - नम्रता से रहना चाहिए एक दूसरे का सम्मान करना चाहिए...

एक गाँव में दो बहन रामा और श्यामा रहती थीं दोनों की शादी एक ही परिवार में हुई. काफी दिन हो जाने के बाद छोटी बहन बोली बहन मै मायके घूम के आती हूँ आप मेरे बच्चों को देखना वह अपने घर से तीन कदम आगे जाती है तो सबसे पहले उसको बेर का पेड़ मिला पेड़ बोला बेटी मेरे जगह में कचरा बहुत है इनको साफ कर दो वो साफ कर दी फिर आगे बढ़ी तो रास्ते में उनको एक बूढी माँ मिली वो बोली बेटी आप मुझे खाना बना के दे सकते हो उसने खाना बना दिया आगे बढ़ी और गौशाला मिली गायों ने बोला हमारे यहाँ बहुत गन्दा है साफ सफाई कर दो उसने साफ कर दिया। लौटते समय वह गौशाला में पहुंची तो उसको दूध दही और बूढी माँ के पास पहुची तो उसको बहुत सारा सोना चांदी, बेर के पास गई तो बेर मिला फिर वो घर चली गई बहुत सारा सामान देख बहन बोली इतना सारा सामान तू कहाँ से पाई फिर बोली अब आप बच्चों को देखो मै घर जा के आती हूँ वह भी निकल पड़ी रास्ते में उसको भी बेर, बूढी माँ, गौशाला मिला पर वे जो बोले उन्होंने वैसा नही किया और वापसी में उसको कुछ नही मिला.घर पंहुच के बोली मुझे कुछ नही मिला बहन बोली नम्रता से रहना चाहिए एक दूसरे का सम्मान करना चाहिए | मंदाकिनी मिश्रा@7697926356.

Posted on: Mar 30, 2018. Tags: MANDAKNI MISHRA

टूटी झोपडिया हमार गरीब घर आ जाना...देवी गीत

ग्राम-छुल्कारी, जिला-अनुपपुर (मध्यप्रदेश) से मंदाकनी मिश्रा एक देवी गीत सुना रहे हैं:
टूटी झोपडिया हमार गरीब घर आ जाना-
बड़े-बड़े लोग मैया हलवा चढ़ावे चन्दन लगा दूँ-
बड़े-बड़े लोग मैया लंहगा बनवावें चुनरी उढादूँ मेरी माँ-
बड़े-बड़े लोग मैया कंगना सजावें मेहंदी लगा दूँ मेरी माँ-
बड़े-बड़े लोग मैया पैजन बनवावें महावर लगा दो मेरी माँ-
बड़े-बड़े लोग मैया दीपक जलावें कपूर जला दूँ मेरी माँ...

Posted on: Mar 29, 2018. Tags: MANDAKNI MISHRA

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download