कोयल के बोली बोलत बाटे कऊआ जरुर कोई बात बा...कविता

साहेबगंज मुजफ्फरपुर बिहार से प्रगतिशील सांस्कृतिक मंच के कवि महेश ठाकुर चकोर एक कविता सुना रहे हैं:
कोयल के बोली बोलत बाटे कऊआ जरुर कोई बात बा-
विचार करी रऊआ जरुर कोई बात बा-
दुश्मन रहल जे कहत हवे भईया-
नईया डुबावल उहे वा खेवईया-
मालिक ढ़ोवात धके-
माथ पर खड़ऊंआ जरुर कोई बात बा-
विचार करी रऊंआ जरुर...

Posted on: Dec 07, 2016. Tags: MAHESH THAKUR CHAKOR

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download