येरे चिरईया बोली रे सजा के ड़ार में चीरईया बोली रे...गोंडवाना गीत

ग्राम-ढढ़ीया, ब्लाक-वाड्रफनगर, जिला-बलरामपुर (छत्तीसगढ़) से महेश्वरी पोया एक गोंडवाना गीत सुना रहें हैं:
येरे चिरईया बोली रे सजा के ड़ार माँ चीरईया बोली रे-
धरती प्रथि चाँद सूरज रचेते नभ में तरिया हाय चीरईया बोली रे-
सात समुन्द्र सोल धराये पियन गन नदिया हाय चीरईया बोली रे-
येरे चिरईया बोली रे सजा के ड़ार में चीरईया बोली रे-
सात समुन्द्र सोल धराये पियन गन नदिया हाय चीरईया बोली रे-
येरे चिरईया बोली रे सजा के ड़ार में चीरईया बोली रे...

Posted on: Jun 16, 2018. Tags: MAHESHWARI POYA

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download