जीवन ख़त्म हुआ तो जीने का ढंग आया...कविता-

ग्राम-छुलकारी, पोस्ट-पसला, जिला-अनुपपुर (मध्यप्रदेश) से लल्लू केवट एक कविता सुना रहे हैं:
जीवन ख़त्म हुआ तो जीने का ढंग आया-
जब बुझ गई समा तो महफ़िल में रंग आया-
मन की मशीनरी में जब काम करना सिखा-
तब बूढ़े तन के हर एक पुर्जे में जंग आया-
गाड़ी निकल गई जब घर से चला मुसाफिर-
मयूर हाँथ मलता वापस बेरंग आया-
जीवन ख़त्म हुआ तो जीने का ढंग आया...

Posted on: Oct 18, 2019. Tags: ANUPPUR MP LALLU KEWAT SONG

पंडा बाबा महराज खोला हो केवड़िया मंदिर के...भक्ति गीत-

ग्राम-छुलकारी, पोस्ट-पसला, जिला-अनूपपुर (मध्यप्रदेश) से लल्लू केवट एक भक्ति गीत सुना रहे हैं:
पंडा बाबा महराज खोला हो केवड़िया मंदिर के-
माता के दरश बर ब्रम्हा जी आयें खोला हो केवड़िया-
मंदिर के माता के दरश बर विष्णु जी आयें खोला हो-
केवड़िया मंदिर के माता के दरश बर भक्त जी आयें-
पंडा बाबा महराज खोला हो केवड़िया मंदिर के...

Posted on: Oct 06, 2019. Tags: ANUPPUR LALLU KEWAT MP SONG

गाँधी नगर गुजरात में है वह तेरा गाँव...कविता-

ग्राम-छुलकारी, जिला-अनूपपुर (मध्यप्रदेश) से लल्लू केवट एक कविता सुना रहा है:
गाँधी नगर गुजरात में है वह तेरा गाँव-
ब्रम्हा बिष्णु श्री संत यह है पावन धाम-
अश्व नन्द के मस्त में है कर बे दाम की खेल-
भक्त योग और ज्ञान का सदगुरु करते भेद-
गुरु बिना ज्ञान न उपजे गुरु बिना मिटे न भेद-
और बिना सतसए न मिटे जय-जय-जय-जय गुरु देव...

Posted on: Oct 05, 2019. Tags: LALLU KEWAT ANUPPUR MP SONG

भजन : दर्शन करे बर हा, गढ़िहा मा जाबों दर्शन करे बर हा...

ग्राम-छुलकारी, जिला-अनूपपुर (मध्यप्रदेश) से लल्लू केवट एक भजन सुना रहा है:
दर्शन करे बर हा, गढ़िहा मा जाबों दर्शन करे बर हा-
वह बिराजे पंचों पांडवा सुन्दर मूर्ति बनाये-
वह बिराजे शेरवा के दाई, लाली ध्वजा फहराए-
महिमा गाए बर हो, गढ़िहा मा जाबों महिमा गाए बर हा-
वह बिराजे सिध्द-मून बाबा, अग्नि दुनी जलाये-
वह बिराजे ठाकुर बाबा, सदा झंडा फहराए-
सुता चढ़ाये बर हो, गढ़िहा मा जाबों दर्शन करे बर हा...

Posted on: Sep 25, 2019. Tags: ANUPPUR LALLU KEWAT MP SONG

भजन : तार पापी हजार, तार पापी हजार, आपन नाम लगाईं के-

ग्राम-छुलकारी, जिला-अनूपपुर (मध्यप्रदेश) से लल्लू केवट एक भजन सुना रहा है:
तार पापी हजार, तार पापी हजार-
आपन नाम लगाईं के-
सुवा पढ़ावत गढ़ का तर गये-
राम-नाम के नाम मिचड़ गये-
हो गई सागर पर, हो गई सागर पार-
आपन नाम लगाईं के-
पाँव धोईके केवट तर गये-
गंगा जी पार उतर गये-
तार परिवार, तार परिवार-
तार पापी हजार, तार पापी हजार-
आपन नाम लगाईं के...

Posted on: Sep 23, 2019. Tags: ANUPPUR CG LALLU KEWAT

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download