दुर्गा माटी ला घलो कभू ना समझय नीत...कविता-

ग्राम-बरभंवा, पंचायत-सरेखा, जिला-कबीरधाम (छत्तीसगढ़) से लक्ष्मण श्रीवास के साथ आजमी और यासमीन छत्तीसगढ़ी भाषा में एक कविता सुना रही हैं :
दुर्गा माटी ला घलो कभू ना समझय नीत-
पालन पोषन येही करय, कमल फुलए येही कीत-
टीका बना के धरे, होत ना कोनो संत-
पीकर तो महुरा बरे, चारी चारी चुगली ला समाज-
खजरी खसरा रोग, खाजुवावत दुःख होत है पाछू दुःख ला भोग
जउन गांव जाना नही पूछे के का काम...

Posted on: Sep 22, 2018. Tags: CG CHHATTISGARHI KABIRDHAM LAKSHMAN SHRIWAS POEM

13 साल से विधवा पेंशन के लिए आवेदन कर रही हूँ, अभी तक नही मिला, कृपया मदद करें...

आश्रित ग्राम-मन्नाविदी, पंचायत-सरेखा, ब्लोक बोडला, जिला-कबीरधाम (छत्तीसगढ़) से बिसाहिन बाई धुर्वे बता रही हैं वे 13 साल से विधवा है, अपने घर की मुखिया है पूरी जिम्मेदारी उठाती हैं, उन्होंने कई बार संबंधित कार्यालय में विधवा पेंशन के लिए आवेदन किया, लेकिन अभी तक उन्हें विधवा पेंशन नही मिला रहा है अधिकारी आश्वासन देते है लेकिन आज तक कोई कारवाही नही हुई, इसलिए वे सीजीनेट के सुनने वाले सभी सांथियो से अपील कर रहे है कि इन नंबरों पर अधिकारियों से बात कर समस्या का निराकरण करने में मदद करें : CEO@9669725077, कलेक्टर@9424136900, सचिव@7089858694. संपर्क@6260781574.

Posted on: Jun 24, 2018. Tags: LAKSHMAN SHRIWAS