सूखा पड़गा है आसों के साल मा...बन्नी सूखा गीत

कौशल्या कुशवाहा ग्राम-भिटहुआ, पोस्ट-बरहुला, थाना-अतरैला, जिला-रीवा, मध्यप्रदेश से एक बन्नी गीत सुना रही हैं:
सूखा पड़गा है आसों के साल मा-
पानी नहीं कुआँ ताल मा-
ससुर हमारे सुनत नहीं-
कुआँ ताल खोदावत नाही-
सूखा पड़गा है आसों के साल मा...

Posted on: Jul 15, 2016. Tags: Kaushalya Kushwaha