सूखा पड़गा है आसों के साल मा...बन्नी सूखा गीत

कौशल्या कुशवाहा ग्राम-भिटहुआ, पोस्ट-बरहुला, थाना-अतरैला, जिला-रीवा, मध्यप्रदेश से एक बन्नी गीत सुना रही हैं:
सूखा पड़गा है आसों के साल मा-
पानी नहीं कुआँ ताल मा-
ससुर हमारे सुनत नहीं-
कुआँ ताल खोदावत नाही-
सूखा पड़गा है आसों के साल मा...

Posted on: Jul 15, 2016. Tags: Kaushalya Kushwaha

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download