उर्पल ते उर्पल ते पत्ते केयिता दादा ...गोंडी किसानी गीत

जिला-मलकानगिरी (उड़ीसा) से कोसा मडकामी विज्जा एक गोंडी गीत सुना रहे हैं किसान जब धान बोने की शुरुआत करते हैं तब यह गीत गाया जाता है:
उर्पल त उर्पल त पत्ते केयिता, हो दादा उर्पल त उर्पल त खाती केयिता-
हो दादा मल्लो ते मल्लो ते दाका रोसेला-
रे रे ला रे रे ला रेला रेला, रेरेला रेरेला रेरेला रेला रेरेला-
वेरका त वेरका त उर्पले केयिता हो दादा, वेरका त वेरका त उर्पले केयिता-
हो दादा मल्लो ते मल्लो ते दाका रोसेला-
रे रे ला रे रे ला रेला रेला रेरेला रेरेला रेरेला रेला रेरेला-
गोड़ेल त गोड़ेल त माव केयिता हो दादा-

मल्लो ते मल्लो ते दाका रोसेला ....

Posted on: May 06, 2018. Tags: KOSA MADKAMI ODISHA GONDI

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download