अली तूमि गहा के रे, छना नना छन कईया...हल्बी गीत-

जिला-कोंडागांव (छत्तीसगढ़) से उमा ध्रुव एक हल्बी गीत सुना रही हैं :
अली तूमि गहा के रे, छना नना छन कईया-
अली तूमि नशा के रे, छना नना छन कईया-
काठी कुमडारा झन सागो, काचाविरी बड रागो-
कीरे छना नना छन कईया-
अली तूमि गहा के रे, छना नना छन कईया-
सड़क बने मोटर गाड़ी माटी सेलू सेलू बासी ओ-
प्रकृति सम्पदा डगमगागे, आमर बस्तर आसो सीरे-

छना नना छन कईया...

Posted on: Oct 07, 2019. Tags: CG KONDAGAON SONG UMA DHRUV

आर्ट एजुकेशन सेंटर, जहाँ महिलाये चूड़िया बनाती और प्रशिक्षण देती हैं-

आर्ट एजुकेशन सेंटर, कोंडागाँव (छत्तीसगढ़) से भूमिका बता रही हैं, वहां पर चूडियाँ बनाया जाता है| महिलायें चूड़िया बनाने का काम करती हैं, जिसका उन्हें एक चूड़ी का एक रुपये और एक कंगन का 2 रुपये मिलता है, इस तरह से वे महीने का 5 हजार रुपये कमा लेती हैं| आर्ट एजुकेशन सेंटर द्वारा महिलाओं को प्रशिक्षण देने का काम भी कराते हैं| चूड़ी बनाने के लिये उन्हें कच्चा माल वहीँ पर उपलब्ध हो जाता है, दूसरे जगह जाने की जरुरत नहीं होती है| चूड़ी बनाने का प्रशिक्षण संबंधी जानकारी के लिये संपर्क कर सकते हैं: संपर्क नंबर@7898335615.

Posted on: Sep 11, 2019. Tags: BHUMIKA GAWADE CG KONDAGAON MOHAN YADAV

शुभ स्वागतम शुभ, शुभ स्वागतम शुभ...स्वागत गीत-

कोंडागांव (छत्तीसगढ़) से उमा ध्रुव एक स्वागत गीत सुना रही हैं :
शुभ स्वागतम शुभ, शुभ स्वागतम शुभ-
सुनलो, सुनलो-
गुन गुनाए भौरें भी, गा रहे है गीतों की-
सरगम बजाते है जी ताल-
भौरें के धुन में घुँघरू गुन में-
नाच उठा संसार-
शुभ स्वागतम, शुभ स्वागतम हो...

Posted on: Sep 10, 2019. Tags: CG KONDAGAON SONG UMA DHRUW

गीत गा रहे हैं आज हम मंजिलो को ढूंढते हुये...गीत-

जिला-कोडागांव (छत्तीसगढ़) से ऊमा ध्रुव एक गीत सुना रही है :
गीत गा रहे हैं आज हम मंजिलो को ढूंढते हुये-
आ गये यहाँ जवां कदम मंजिलो को ढूंढते हुये-
दो दिलो में ये उमंग है, दो जंवा नया बसायेंगे-
जिंदगी को तोड़ आज से दोस्तो को हम सिखायेंगे-
फूल दो नया खिलायेंगे ताजगी को ढूंढते हुये-
कोढ की तरह दहेज है आज देश के समाज में-
है तबाह आज आदमी लूट पाट के समाज में...

Posted on: Sep 05, 2019. Tags: CG KONDAGAON SONG UMA DHRUV

करना होगा सारे जग को इसका ही गुणगान...आयुर्वेद गीत

ग्राम-जुबानी कला, जिला-कोंडागाँव (छत्तीसगढ़) से राम प्रसाद निषाद आयुर्वेद के उपर एक गीत सुना रहे हैं:
करना होगा सारे जग को इसका ही गुणगान-
जग में आयुर्वेद महान जग में आयुर्वेद महान-
हमने ईश्वर से इतना सुंदर शरीर है पाया-
कंचन सी काया को लेकिन हमने धूल बनाया-
किया बहुत उपचार ना पर हमने आहार सुधारा...

Posted on: Sep 04, 2018. Tags: CG HEALTH KONDAGAON RAMPRASAD NISHAD SONG

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download