मज़ धार धार मे छोड़- गीत

ग्राम -तमनार, जिला-रायगढ़, (छत्तीसगढ़) से कन्हैयालाल पडियारी एक गीत सुना रहे है:
छोड़ न जाना साथी,
मज़े धार धार मे छोड़|
मै हु अनाड़ी नहीं आता तेरना,
हाथ पकड़ कर उस पार ले जाना|
छोड़ न जाना नहीं साथी,
मज़े धार धार मे छोड़|
सर के भरोसा पकड़ी मे हाथ,
चुडा न लेना अपना देकर हाथ|
छोड़ न जाना साथी, मज़े धार धार मै छोड़...

Posted on: May 19, 2019. Tags: CG KANHAIYALAL PADIYARI RAIGARH SONG

बादल हा मांदर बजावत हवे बिजली के संग...कविता

ग्राम-तमनार, जिला-रायगढ़, (छत्तीसगढ़) से कन्हैया लाल पडियारी एक कविता सुना रहा है:
झूमत हवे रुख-राई खोका हवा के संग-
बादल हा मांदर बजावत हवे बिजली के संग-
छलकत हवे नदी-नरवा कुरकुट-कचरा के संग – बही-बही जावत हवे दुल्हा अपन पीया के संग-
हरी भरी भुइयां अपन माती के संग-
बिखरे हवे खुशबु मस्त मतंग...

Posted on: May 19, 2019. Tags: CG KANHAIYALAL PADIYARI RAIGARH

बहरी लोगो और बहरी कुत्तो से सावधान रहना चाहिए -कहानी

ग्राम-तमनार, जिला-रायगढ़, (छत्तीसगढ़) से कन्हैयालाल पडियारी एक कहानी सुना रहा है जिसका सीर्सक है- “बहरी लोगो और बहरी कुत्तो से सावधान रहना चाहिए ”
शहर मै रघु हलवाई का होटल था, होटल अच्छा चलता था और लोग भी काफी रहते थे| उसके होटल के सामने 5-6 कुत्ते हमेशा रहते थे| एक दिन भोला किसान सामान लेने शहर चला गया और उसके पीछे पीछे उसका कालू कुत्ता भी चला गया|
भोला किसान पहले रघु हलवाई के होटल पर नाश्ता करने गया| उसके कालू कुत्ते को देख कर, होटल के बहर बेठी कुत्ते भोक उठी और वहाँ कुत्तो के बीच झगड़ा हुआ| होटल मै लोग डर कर आधा अधुरा खाना छोड़ के बिना पैसा देके भाग गए| रघु हलवाई और उसके नौकर भी छुप गए और मोका देख कर भोला किसान भी वहां से निकल पड़ा| कुत्तो का जगडा ऐसा था के होटल का सारा सामान इधर उधर बिखर कर ख़राब हो गया| कालू कुत्ता भी मोका देख कर खिसक गया| कुत्तो का झगडा कुछ कम हुआ और नौकरो ने उनको भगाया और सामान सही कर दिया| रघु हलवाई का उस दिन के कमाई लुट गयी|बहरी लोगो और बहरी कत्तु से सावधान रहना चाहेया|

Posted on: May 19, 2019. Tags: CG KANHAIYALAL PADIYARI RAIGARH STORY

कोई छोटा है न कोई बड़ा सभी एक सामन हैं, हम सब प्राक्रतिक के सेवक हैं ...कहानी

ग्राम-तमनार, जिला-रायगढ़, (छत्तीसगढ़) से कन्हैयालाल पडियारी एक कहानी सुना रहा है: एक बार सभी देवताओं का सम्मलेन हुआ| सभी देवता सभा कक्ष में आये, सभी अपने गुणों का बखान करने लगे अग्नि देव बोला मै सभी को आग प्रदान करता हूँ,सब प्राणी पकाकर खाते हैं| मै सभी को जलाकर नष्ट कर सकता हूँ, ठण्ड के दिनों में ताप देकर ठण्ड को भगाता हूँ, इसलिए मै सभी से बड़ा हूँ|पवन देव बोला मेरे कारण सभी जीवित हैं मै सभी जीवों को प्राण वायु देता हूँ,मै बहता हूँ तभी वर्षा होती है सभी को ठंडक प्रदान कर्ता हूँ इसलिए मै सभी से बड़ा हूँ|वरुण देव बोला मै वर्षा के पानी को इकट्ठा करके रखता हूँ मै बड़ा हूँ , चंद्रमा बोला मै रात में सभी को प्रकाश के साथ-साथ शीतलता प्रदान करता हूँ मै बड़ा हूँ |यमराज बोला मै संसार में उतना ही प्राणी रखता हूँ जिससे कोई भी प्राणी को कष्ट न हो, मै बड़ा हूँ| सूर्य देव बोला मै सभी को गर्मी के साथ-साथ प्रकाश देता हूँ मै बड़ा हूँ |शनि देव बोला मेरे प्रकोप से कोई नही बाच सकता मै संसार को पल भर में नष्ट कर सकता हूँ | राहू-केतु बोले हम सूर्य-चंद्रमा को गृह सकते हैं, हम बड़े हैं|इंद्र देव् बोला मै वर्षा कर्ता हूँ तभी धरती को पानी मिलता है | मेघ देव बोला मै पानी बनकर बरसता हूँ तभी सभी को पानी मिलता है | सभी के बाते सुनकर ब्रम्हा, विष्णु, महेश बोले कोई छोटा है न कोई बड़ा सभी एक सामन है, हम सब प्राक्रतिक के सेवक है |

Posted on: May 19, 2019. Tags: CG KANHAIYALAL PADIYARI RAIGARH

कहाँ लागाये इतना देर तुम्हार नही आज खैर...हास्य व्यंग रचना

ग्राम-तमनार, जिला-रायगढ़, (छत्तीसगढ़) से कन्हैया लाल पडियारी एक हास्य व्यंग सुना रहे हैं:
मै जब बाहर से आया दरवाजे से आवाज लागाया-
बीबी कड़ककर बोली अन्दर से दरवाजा खोली-
कहाँ लागाये इतना देर तुम्हार नही आज खैर-
पहले उसने पोंछा लगवाई फिर बर्तन मंज्वाई-
बाद में कपडे भी धुलवाई खाना भी पकवाई-
फिर बिस्तर लगवाई सूत कर मालिश करवाई...

Posted on: May 19, 2019. Tags: CG KANHAIYALAL PADIYARI RAIGARH

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download