लॉकडाउन में बाहर से आया हूँ, मुझे अभी काम नहीं मिल रहा है, मदद करे...

ग्राम+पंचायत-जतरी, ब्लॉक-जवा, जिला-रीवा (मध्यप्रदेश) से सुषमा के साथ में ब्रिजलाल बता रहे है कि वे लॉकडाउन में बाहर से आये थे और क्वारंटाइन में 14 दिन तक थे और अभी वे उनके घर वापस चले गए है उनको अभी कोई काम नहीं मिल रहा है और सरकार द्वारा 1000 रुपयें उनका खाते में नहीं आया है उनका कहना है कि काम मिलना चाहिए | इसलिए वे सीजीनेट सुनने वाले साथियों से अपील कर रहे है कि दिए नंबर पर बात कर खाते में पैसा और काम दिलवाने में मदद करे : संपर्क@8827389351, C.E.O@9407803480. (170854) NM

Posted on: Jul 06, 2020. Tags: BRIJLAL CORONA PROBLEM REWA MP SUSHMA

लॉकडाउन के कारण फंसे है, खाने की व्यवस्था नहीं हो रही है, घर भी आना चाहते है, कृपया मदद करें...

राजलाल कोल, दिनेश प्रसाद कोल बता रहे है कि ग्राम-नुस्की, जिला-रीवा (मध्यप्रदेश) के रहने वाले है मजदूरी करने को पुणे में गये थे लॉकडाउन के कारण कम्पनी भी बंद हो गई है और वे लोग वहीँ फंस गए है | उनके पास खाने पीने की भी कोई व्यवस्था नहीं है |
बहुत समस्या हो रही है| वे लोग जल्द से जल्द घर जाना चाहते है | इसलिए सीजीनेट सुनने वाले साथियों से मदद कि अपील कर रहे है | संपर्क नम्बर@7869635596.(165884)

Posted on: May 01, 2020. Tags: CORONA PROBLEM DINESH PRASAD KOL RAJLAL KOL

जय सेवा-जय सेवा बोलो रे...गोंडी गीत

ग्राम-लामता, जिला-बालाघाट (म.प्र.) से ब्रजलाल टेकाम एक गोंडी गीत सुना रहे है, इस गीत में गोंडी भाषा की विशेषता के बारे में बताया गया है:
जय सेवा-जय सेवा बोलो रे-
जय सेवा-जय सेवा बोलो रे-
अनि वनका ते मावा गोंडी भाषा-
जय सेवा-जय सेवा इंटरो-
अनि वनका ते मावा गोंडी भाषा-
जय सेवा-जय सेवा इंटरो-
भैया जय-सेवा जय-सेवा इंटरो-
जय सेवा-जय सेवा सबतुन इन्दाना-
गोंडी धरम तुन हैय जो पुन्दाना-
जय सेवा-जय सेवा सबतुन इन्दाना-
गोंडी धरम तुन हैय जो पुन्दाना-
अनि गोंडी भाषा काक सब अंटरो-
अनि वनका ते मावा गोंडी भाषा-
जय सेवा-जय सेवा...
ब्रजलाल टेकाम@ 9685526118.

Posted on: Jul 25, 2018. Tags: BALAGHAT BRAJLAL TEKAM GONDI SONG

झिमिर-झिमिर पीर वाईता,ढोड़ा उषा वाता...गोंडी गीत-

ग्राम-लामता, जिला-बालाघाट (मध्यप्रदेश) से ब्रजलाल टेकाम एक पारम्परिक गोंडी लोकगीत सुना रहे हैं. इस गीत गीत में जीजा अपनी शाली से हंसी-ठिठोली करते हुए गाने में कुछ कहना चाह रही है:
झिमिर-झिमिर पीर वाईता,ढोड़ा उषा वाता-
अन सांगो घुस्सूर बैसी, बोट्टे देहकी लाता-
नावा मामा ना टूरी वो, केंजा नवा गोंडी पाटा-
पुपुल दाड़ी, पुपुल दाड़ी, व्ईयो हिल्ले बाड़ी-
अनि अन सांगो, जल्दी-जल्दी छूटे मायल गाड़ी-
कनकी ता गाटो, चिरोटा ता भाजी-
अनि आलू भट्टा परो, सांगो-अरसिता गाजी-
ठेका ते ठेका अनि, तोड़ी ता ठेका-
ना संग दे ऐन्दिकी ते, पैसा नना सेका-
नावा मामा ना टूरी वो...
ब्रजलाल टेकाम@9685526118.

Posted on: Jul 22, 2018. Tags: BALAGHAT BRAJLAL TEKAM GONDI SONG

मरका पर्रो कांवा ना डेरा...गोंडी गीत-

ग्राम-लामता, जिला-बालाघाट (मध्यप्रदेश) से ब्रजलाल टेकाम एक गोंडी गीत सुना रहे है । इस गीत के माध्यम से बताया गया है कि कौवा अपने बच्चों के लिए आम के पेड़ पर गोदा बनाता है, उसी पर निवास करता है और किस प्रकार से अपने बच्चो के लिए दाना चुन चुनकर लाता हैं तथा खिलाता है:
मरका पर्रो कांवा ना डेरा-
मरका पर्रो कांवा ना डेरा रो भाई-
मरका पर्रो कांवा ना डेरा-
मरका मडा ते गा, ताना हैई डेरा-
घास सनकाडी ता, बने किता घेरा-
अनी अगा ताना मंदा बसेरा रो भैया-
चुडू-चुडू चंव्वा, अनी चुडू-चुडू पूता-
चंव्वा नू तिह्ताता, वन्जी अनी कूता-
अनी मरका पर्रो ताना, बसेरा रो भैया-
वले-वले लख अन्ता, तिन्दाले गा दाना-
दिन अर्रे वाईता, ताना ठिकाना-
अनी मरका पर्रो ताना, बसेरा रो भैया-
मरका पर्रो कांवा ना डेरा-
मरका पर्रो कांवा ना...
ब्रजलाल टेकाम@9685526118.

Posted on: Jul 21, 2018. Tags: BALAGHAT BRAJLAL TEKAM GONDI SONG

View Older Reports »