जिन्होंने अपने देश के खातिर जान गवां दई रे...बुंदेलखंडी देशभक्ति गीत-

ग्राम-राजापुर, तहसील-निमाड़ी, जिला-टीकमगढ (मध्यप्रदेश) से चिरौंजीलाल कुसवाहा एक बुंदेलखंडी देशभक्ति गीत सुना रहे हैं :
जिन्होंने अपने देश के खातिर जान गवां दई रे-
उन वीरो को प्रणाम शान पे जान गवां दई रे-
वो झासी की रानी वो अमर कहानी सुनो भईया-
अरे काट काट के सर दुश्मन के, खून की गंगा बहा दई रे-
उन वीरो को प्रणाम शान पे जान गवां दई रे-
अरे बीच समर में गाड़ के झंडा, दई दै सलामी रे...

Posted on: Aug 17, 2018. Tags: BUNDELKHANDI CHIRAUNJILAL KUSWAHA MADHYA PRADESH TIKAMGARH

री री लोयो रे रे रेला रेला रे रेला...गोंडी गीत

ग्राम-कोडगाँव गुट्टाडी, जिला-कोंडागाँव (छत्तीसगढ़) से खेमजीलाल सोडी एक गोंडी गीत सुना रहे है:
री री लोयो रे रे रेला रेला रे रेला-
री री लोयो रेला रेला रे रेला-
निया टोडी कोरिया-कोरिया रा-
दादो रो निया टोडी कोरिया रो-
री री लोयो रे रे रेला रेला रे रेला...

Posted on: Apr 30, 2018. Tags: KHEMJILAL SODI GONDI

जिन्होंने अपने देश खातिर जान गवां दइ रे...वीरांगना लक्ष्मीबाई पर गीत

चिरौंजी लाल कुशवाहा ,ग्राम-राजापुर, तहसील निवाडी जिला-टीकमगढ़,(मध्यप्रदेश) से वीरांगना लक्ष्मीबाई पर एक गीत गा रहे है :
जिन्होंने अपने देश खातिर जान गवां दइ रे-
उन वीरों को प्रणाम शान पे जान गवां दइ रे-
झाँसी की रानी वो अमर कहानी सुनो भइया-
बीच समर में गाड़ के झंडा दइयो सलामी रे-
काट-काट के दुश्मन के खून की नदिया बहा दइ रे-
काट-काट के सर दुश्मन के खून की होली खिला दइ रे-
उन वीरों को...

Posted on: Feb 01, 2018. Tags: Chiraunjilal Kushwaha

जिन्होंने अपने देश के खातिर जान गवा देई रे...

चिरोंजीलाल कुशवाहा ग्राम-राजापुर, जिला-टीकमगढ़ (मध्यप्रदेश) से एक गीत सुना रहें हैं:
जिन्होंने अपने देश के-
खातिर जान गवा देई रे-
उन वीरों हों प्रणाम-
शान से जान गवा देई रे-
झाँसी की रानी औ अमर-
कहानी सुनों भईया-
ओ सिमा पे चलती थी ओ-

केसे लड़ीं थी सुनों भईया-
काट -काट के सर दुश्मन के- खून के नदिया बहा देई रे...

Posted on: Jan 31, 2018. Tags: CHIRONJILAL KUSHWAHA

ज्योत से ज्योत जगाते चलो, प्रेम की गंगा बहाते चलो...देशभक्ति गीत

चिरोंजीलाल कुशवाह, ग्राम-लडवाही, तहसील-निवाड़ी, जिला-टीकमगढ़ (म.प्र.) से एक देशभक्ति गीत सुना रहे है:
ज्योत से ज्योत जगाते चलो-
प्रेम की गंगा बहाते चलो-
राह में आए जो दीन दुखी-
सबको गले से लगाते चलो-
जिसका न कोई संगी साथी ईश्वर है रखवाला-
जो निर्धन है जो निर्बल है वह है प्रभू का प्यारा-
प्यार के मोती लुटाते चलो प्रेम की गंगा...

Posted on: Jan 31, 2018. Tags: CHIRONJILAL KUSHWAHA

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download