क्रांति का कदम जिसमे है दम...क्रांतिकारी कविता-

रायपुर (छत्तीसगढ़) से ज्योति वर्मा एक क्रांतिकारी कविता सुना रही है :
क्रांति का कदम जिसमे है दम-
अरे कभी नहीं रुक सकता-
जड़ से मिटा देंगे-
उग्रवादियों का सत्ता-
जड़ से मिटा देंगे-
लोहे की सलाके हो-
लोहे की बेडी हो-
कोई रोक नहीं सकता-
मजबूत हथेली को...

Posted on: Apr 21, 2017. Tags: JYOTI VARMA

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download