पिंजरे के पंछी रे, तेरा दर्द ना जाने कोय...गीत-

ग्राम-कोलियारी, जिला-नारायणपुर (छत्तीसगढ़) से हीरामनी नाग एक गीत सुना रही हैं :
पिंजरे के पंछी रे, तेरा दर्द ना जाने कोय-
बाहर से खामोश रहे तू, भीतर-भीतर रोये रे-
कह ना सके तू अपनी कहानी-
तेरी भी पंछी क्या जिंदगानी रे-
विधि ने तेरी कथा लिखी है, आंसू में कलम तू बोर-
तेरा दर्द ना जाने कौय...

Posted on: Nov 11, 2019. Tags: CG HIRAMANI NAG NARAYANPUR SONG

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download