हम मजदूरी का काम करते हैं, प्रतिदिन हमारे पास काम नहीं होता, बेरोजगारी की समस्या से जूझना पड़ता है...

कल्यानपुर, जिला-शहडोल (मध्यप्रदेश) से हरीश कुमार कुशवाहा बता रहे हैं कि वे बेरोजगार युवक हैं, मजदूरी का काम करते हैं| प्रतिदिन उनके पास काम नहीं होता| कभी काम होता है, तो कभी नहीं होता है| वे उसी में अपना जीवन यापन और परिवार का पालन पोषण करते हैं| उनका कहना है, गांव के मुखिया भी इस पर ध्यान नहीं देते, केवल अपना देखते हैं| इस तरह कई युवक बेरोजगारी की समस्या से जूझ रहे हैं| वे सीजीनेट के सांथियो को संदेश दे रहे हैं कि इस पर विचार करें और बेरोजगारी की समस्या को हल कराने की कोशिश करें, जिससे सभी अपना जीवन यापन अच्छे से कर सके : संपर्क नंबर@9009115211.

Posted on: Feb 27, 2019. Tags: HARISH KUSHWAHA MP PROBLEM SHAHDOL

ओ दीदी ओ, ओ भईया ओ, चला चली यात्रा मा...छत्तीसगढ़ी में शांति पदयात्रा गीत-

ग्राम-सिलतिली, पोस्ट-करसी, तहसील, थाना-प्रतापपुर, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से हरिशंकर रजक एक छत्तीसगढ़ी गीत के माध्यम से 2 अक्टूबर 2018 को होने वाली शांति पदयात्रा में शामिल होने के लिए कह रहे हैं :
चटक मटक रेंगना तोर बड़ा जोड़दार बड़ा जोड़दार-
ऐ दीदी ओ, ओ भईया ओ, ओ दीदी ओ, ओ भईया ओ-
चला चली यात्रा मा, चला चली यात्रा मा-
आंध्र प्रदेश से जगदलपुर, आंध्रप्रदेश से जगदलपुर-
ऐ दीदी ओ, ओ भईया ओ, चला चली यात्रा मा...

Posted on: Sep 27, 2018. Tags: CG CHHATTISGARHI HARISHANKAR RAJAK PEACE WALK SONG SURAJPUR

गेंद गिर गए जमुना मा, कूदो कन्हैया...बाल कविता-

ग्राम-बैजलपुर, जिला-कबीरधाम (छत्तीसगढ़) से पांचवी कक्षा की छात्रा इंद्रानी हरिशंकर रजक को एक बाल कविता सुना रही है :
गेंद गिर गए जमुना मा, कूदो कन्हैया-
काका मेरा गाए गेंद के खेलईया-
काकी मेरा गाए गेंद के खेलईया-
भईया मेरा गाए गेंद के खेलईया-
गेंद गिर गए जमुना मा, कूदो कन्हैया-
भाभी मेरा गाए गेंद के खेलईया...

Posted on: Sep 25, 2018. Tags: CG CHILDREN HARISHANKAR RAJAK KABIRDHAM POEM

छोटी सी मछली पानी में बिछली...बाल कविता-

ग्राम-बैजलपुर, जिला-कबीरधाम (छत्तीसगढ़) से हरिशंकर रजक एक छोटी से बालिका राधिका से एक बाल कविता सुन रहे हैं :
छोटी सी मछली पानी में बिछली-
पापा ने पकड़ा मम्मी ने पकाया-
मोटा भईया खाया-
मछली जल की रानी हैं, जीवन उसका पानी हैं-
हाथ लगाओ डर जाती है, बाहर निकालो मर जाती है-
आजा राजा राजा मामा लाया बाजा...

Posted on: Sep 24, 2018. Tags: CG CHILDREN HARISHANKAR RAJAK KABIRDHAM POEM

अपनों से अलग होने से हमारी कीमत कम रह जाती है, कृपया अपने परिवार, मित्रों से हमेशा जुड़े रहें...

हरिशंकर रजक एक कहानी सुना रहे है: जब अंगूर खरीदने बाजार गया, उसका क्या भाव है पूछा तो बोला 80 रूपये किलो। पास ही कुछ अलग-अलग टूटे हुए अंगूर दाने पड़े हुए थे पूछा क्या भाव है बोला 30 रूपये किलो। मैंने पूछा इतना कम दाम क्यों ओ बोला साहब है तो अभी बहुत बढिया लेकिन अपने गुच्छे से टूटे गये है इसलिए। मैं समझ गया कि अपनों से अगल होने पर हमारी कीमत आधे से भी कम रह जाती है कृपया आपने परिवार मित्रो से हम हमेशा जुड़े रहे:
दूसरा एक चुटकुला : एक पढ़ा लिखा आदमी एक अनपढ़ ग्वार दोनों दोस्त है अनपढ़ बोलता है पढ़ा लिखा से घड़ी और बीबी में क्या अंतर है पढ़ा लिखा आदमी बोलता है घडी बिगड़ जाती है तो बंद हो जाती जब बीबी बिगड़ जाती है तो शुरु हो जाती है...

Posted on: Sep 20, 2018. Tags: BODLA CG HARISHANKAR RAJAK JOKE KABIRDHAM STORY

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download