हाय जमाना तेन्दु पाना, तोड़ ले जावे डोंगरी मा रे...गोंडी गीत

ग्राम- दरगड़ा, विकासखण्ड- कुरर्इ, जिला- शिवनी, मध्यप्रदेश से गायत्री भलावी एक गोंडी गीत प्रस्तुत कर रही हैं. गीत के माध्यम से यह बताया जा रहा है कि गोंडी समाज के बच्चों के पालन-पोषण के लिए माता-पिता तरह-तरह के जतन करते हैं:
डोंगरी में बाँस-बेला, डोंगरी में बाँस-बेला हो – हाय रे...हाय-
हाय जमाना तेन्दु पाना, तोड़ ले जावे डोंगरी मा रे-
हाय..रे... हाय-
जमाना तेन्दु पाना-
आमा खावे, इमली खावे, चार खावे हाय – जमाना डोंगरी मा रे –
हाय.. रे... हाय-
जमाना तेन्दु पाना तोड़ ले जावे डोंगरी मा रे – डोंगरी मा बाँस-बेला, डोंगरी मा बाँस-बेला हो – झाड़-झडुला पाना तेन्दु डोंगरी मा – हाय जमाना तेन्दु पाना तोड़ ले जावे डोंगरी मा रे – हाय...रे...हाय – जंगल जावे कटिया लावे डोंगरी मा हाय – जमाना तेन्दु पाना तोड़ ले जावे डोंगरी में गा – हाय...रे...हाय-

Posted on: Jan 14, 2015. Tags: Gayatri Bhalavi

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download