जाति बातिर पेकोर येलो जाति बाति येलो पेकोरे...गोंडी गीत

ग्राम-माचपल्ली, तहसील-पखांजूर, जिला-उत्तर बस्तर कांकेर (छत्तीसगढ़) से हेमगाय गावड़े और राधा कचलाम एक गोंडी गीत सुना रहे हैं:
रे रे लोयो रेला रेला रे रे लोयो रेला रे रे ला-
जाति बातीर पेकोर येलो जाति बाति-
येलो पेकोरे-
अडका काया चिलोर चलोर-
रेला काया सोबाय काया रे रेला-
जाति बातिर पेकोर येलो जाति बाति-
येलो पेकोरे...

Posted on: Sep 19, 2018. Tags: CG GONDI HEMGAAY GAWDE KANKER PAKHANJUR RADHA KACHLAM SONG

मिलन समधिन मिलन ओ मिलन वो...गोंडी विवाह गीत

चिरीपारा, ग्राम-पालनदी, तहसील-पखांजूर, जिला-उत्तर बस्तर कांकेर (छत्तीसगढ़) से संतूराम गावडे के साथ गाँव की कुछ महिलाये एक गोंडी विवाह गीत सुना रही है:
री री लोयो री री रिलो री री रिलो ओ-ओ-
मिलन समधिन मिलन ओ मिलन वो-
काय करके मिलबो-मिलबो ओ मुरी करके-
मिलबो-मिलबो ओ ओ ओ-
काय लेका ओईसे-ओईसे ये टूरा लेका-
ओईसे – ओईसे ये समधिन दाय्किन-
करसा पुल पुलिस से पुलिस से ये समधिन दाय्किन – काय नाम रखिसे- रखिसे कृष्ण नाम रखिसे
रखिसे...

Posted on: Sep 18, 2018. Tags: CG GONDI KANKER PAKHANJUR SANTURAM GAWDE SONG

पैसा पास होता तो चार चने लाते, चार में से एक चना तोते को खिलाते...बाल कविता

ग्राम-पेनकोड़ो, तहसील-कोइलीबेडा, जिला-उत्तर बस्तर कांकेर (छत्तीसगढ़) से रितिका गावड़े, रेशमा एक्का और मनीषा कडेयाम एक कविता सुना रहे हैं :
पैसा पास होता तो चार चने लाते-
चार में से एक चना तोते को खिलाते-
तोते को खिलाते तो टाँव-टाँव गाता-
टाँव-टाँव गाता तो बड़ा मजा आता-
चार में से एक चना घोड़े को खिलाते-
घोड़े को खिलाते तो पीठ पर बिठाता...

Posted on: Aug 28, 2018. Tags: CHHATTISGARH KANKER POEM RITIKA GAWDE SAPANA WATTI

मन करसी वन्तान मन करसी वन्तान...गोंडी गीत

ग्राम पंचायत-मेढ़ो, तहसील-दुर्गकोंदल, जिला-उत्तर बस्तर कांकेर (छत्तीसगढ़ ) से संतोषी गावडे और शांति वट्टी एक गोंडी गीत सुना रहे है, इस गीत को जब लड़का लड़की को चूड़ियाँ पहनाता है तब गाया जाता है:
रीलो यो रीलो रीलो रीलो रीलो यो-
रीलो यो रीलो रीलो रीलो रीलो यो-
मन करसी वन्तान मन करसी वन्तान-
रीलो यो रीलो रीलो रीलो रीलो यो-
बारगा बारगा ततान बारगा बारगा ततान...

Posted on: Jul 27, 2018. Tags: GONDI SONG KANKER SANTOSHI GAWDE SHANTI WATTI

निकुन लेवाय, लेवा तुन टंडीले...गोंडी गीत

ग्राम-लोह्त्तर, पंचायत-बोलंडी, तहसील-अंतागढ़, जिला-उत्तर बस्तर कांकेर (छत्तीसगढ़) से शांति वट्टी, संतोषी गावडे और रामबाई कुरेटी एक गोंडी गीत सुना रहे है: इस गीत को कोलांग महोत्सव के समय गोटुल में गाया जाता है:
रे रे लोयो रे रेला रेला रे लोयो रे रेला-
निकुन लेवाय, लेवा तुन टंडीले-
किलोर वस्ताये कवर वसेताये-
सेंग जोड़-जोड़ लेयो रो जीवा उडिता-
बदिर बूम तोर वातोर नुनिले-
किलोर वस्ताये कवर वसेताये-
सेंग जोड़-जोड़ लेयो रो जीवा उडिता...

Posted on: Jul 23, 2018. Tags: GONDI SONG KANKER RAMBAI KURETI SANTOSHI GAWDE SHANTI WATTI

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download