ओरे जो गेंदा रामानुका बावे रे दाईने भुजा फरके...फागुन सुमरनी गीत

ग्राम-भाडी, ब्लाक-ओडगी, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से रूपलाल मरावी के साथ में पनवेश्वर एक फागुन सुमरनी गीत सुना रहे है:
ओरे जो गेंदा रामानुका-
बावे रे दाईने भुजा फरके-
एके तो अवय अंता जानिला-
पिपरी जी को धाम-
देह्गता या से झुंडा हरना-
रे कुमडिया के देव-
अकरा में स्वती ला बलाऊँ...

Posted on: Feb 14, 2019. Tags: CG FAGUN GEET ROOPLAL MARAVI SURAJPUR

हय रे पीया यहा बैमान खुदसी-खुदसी जिव ला ले...सरगुजिया फागुन गीत

ग्राम पंचायत-बेकारीडांड, विकासखंड-ओड्गी, जिला-सुरजपुर, (छत्तीसगढ़ी) से गणेश सिंह आयाम सरगुजिया भाषा में एक फागुन गीत सुना रहे हैं:
नही तो लिखे नही पढे ये नही कलम धरे-
कलम धरत मोके लाज लागे-
काला लिख के दिखांव खुदसी-खुदसी जिव ला ले-
हय रे पीया यहा बैमान खुदसी-खुदसी जिव ला ले-
नही तो लिखे नही पाढे ये नही कलम चलाय-
कलम चलते मोला लाज लागे...

Posted on: Sep 17, 2018. Tags: CG FAGUN GANESH SINGH AYAM ODGI SARGUJIHA SONG SURAJPUR

पहले सुमर ले तै राम, पहिलगे सुमरनी मा का गात...फागुन गीत-

आश्रित ग्राम-भूडपानी, पंचायत-गोरगी, तहसील, ब्लाक-प्रतापपुर, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से अमरसाय एक फागुन गीत सुना रहे हैं:
पहले सुमर ले तै राम, पहिलगे सुमरनी मा का गात-
पहिले सुमरो माता-पिता ला मै रे, दुसरे इंद्र भगवान तीसरे सुमेरो धरती माता-
ये भय धरती लेते अपभार, पहिल रे सुमरनी मा का गात-
हे गांव सुमेरो तो गंवाचा राजा रे, रे लरिका लागो तोर-
दसो रे अंजोर बिनती सुनते-
हे बेसिन भर देते तो सहार पहिर दो सुमरनी मा का गाते...

Posted on: Aug 07, 2018. Tags: AMARSAI SURAJPUR CG FAGUN SONG

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download