किसान स्वर: आज हमने जल प्रबंधन के बारे में कुछ नहीं किया तो जल्द दिक्कत हो सकती है...

आज के समय में जिस प्रकार से जल स्तर घटता एवं प्रदूषित होता जा रहा है वह चिंता का विषय है, आज हमने जल प्रबंध के बारे में कुछ नहीं किया तो यह हमें शायद दक्षिण अफ्रीका से सिखना पड़ेगा जहां जल प्रबंध नहीं होने के कारण दिनों दिन जल संकट गहराता जा रहा है. बड़ी बड़ी कम्पनियों का ख़राब पानी नदियों में जाता है यह जीव जंतु एवं मानव जाति के लिए खतरा है| किसान भी आजकल ज्यादा पानी खपत वाली खेती कर रहा है, इस ओंर भी सोचने की जरुरत है. जल प्रबंध नाम मात्र रह गया है, हमें बारिस के पानी को सहेज कर रखने की जरुरत है और नदियों को प्रदूषित होने से भी बचाने के उपाय करने होंगे, नहीं तो सकंट हो सकता है.

Posted on: May 01, 2018. Tags: DHARMENDRA KUMAR DHURVE

किसान स्वर: अनाज गोदाम बनाकर सही समय में बेचना चाहिए तब सही दाम मिल सकेगा...

इंदिरा गाँधी कृषि विश्वविद्यालय रायपुर(छत्तीसगढ़) से धमेंद्र कुमार धुर्वे बता रहे है आज सरकार जो किसानों को समर्थन मूल्य दे रही है, वह लागत से बहुत कम है इसीलिए किसानों को अपनी फसल का सही दाम नही मिल रहा है. एक तरफ सरकार कहती है हम किसानों की आय दुगना करेंगे पर कहने और करने में अंतर होता है, अपने सुझाव देते हुए बता रहे है हम को आज ग्रामीण अनाज और बीज गोदाम बनाना चाहिएं जिससे सभी किसानों का माल एकत्रित करना चाहिए जिससे फायदा यह होगा कि किसान अपनी ज़रुरत के अनुसार जब दाम अधिक हो तब माल बेच पायेगा तभी समर्थन मूल्य किसानों को मिलेगा.

Posted on: Apr 23, 2018. Tags: DHARMENDRA KUMAR DHURVE

सुनो राजा राम की कहानी जी, मीठी-मीठी तुलसी की बानी जी...रामायण गीत

ग्राम-खड़सरा, विकासखंड-बोड़ला, जिला-कबीरधाम (छत्तीसगढ़) से धर्मेन्द्र झारिया रामायण गीत सुना रहे हैं:
सुनो राजा राम की कहानी जी, मीठी मीठी तुलसी की बानी जी-
एक जहाँ राजा के तीन झन रानी, एक जा मांगे दू वरदानी-
बात सुनो बहुत पुरानी जी-
चौथे पण मा राजा दशरथ, चार बेटा पागे जी-
महा मुनि विश्वामित्र आ के, राम लखन ला मांगे जी-
शिव धनुष ला राम जी टोरे, सीता जी से नाता जोरे-
घर-घर बजाथ बधाई जी-
बड़ प्रतापी राजा रावन, सीता ला लेगे चुराके जी-
बानर सेना लेके राम जी, चढ़े लंका मा जाके जी-
राक्षस कुल के नाश करे बर, ये धरती के भार हरे बर-
लिए हैं मनुज अवतारी जी...

Posted on: Apr 21, 2018. Tags: DHARMENDRA JHARIYA

चल पड़े है लोग मेरे गाँव के, अब अँधेरा जीत लेंगे लोग मेरे गाँव के...संघटन गीत -

ग्राम-हेडला, प्रखंड-सिमरिया, जिला-चतरा (झारखण्ड) से धर्मेन्द्र कुमार एक संघटन गीत सुना रहे है:
चल पड़े है लोग मेरे गाँव के-
अब अँधेरा जीत लेंगे लोग मेरे गाँव के-
मानव अधिकार के लोग-
ले मसाले चल पड़े है लोग मेरे गाँव के-
अब मानव अधिकार के अँधेरे-
जीत लेंगे लोग मेरे गाँव के-
घर-घर अलख जगायेंगे हम बदलेंगे जमाना...

Posted on: Dec 11, 2017. Tags: DHARMENDRA KUMAR

ऋषि की विद्या और रटंत तोता की कहानी -

एक था ऋषि, वे शिकारियों से एक तोता मंगवाया, तोता को एक रट लगवाया: शिकारी आएगा, जाल बिछायेगा, दाना डालेगा, लोभ से फसना नहीं. उसे दोहा की तरह याद कराया तोता उसे रट लिया. ऋषि ने एक दिन कहा इस तोता को अब मैं छोड़ देता हूँ | तोता को छोड़ दिया फिर एक शिकारी को ऋषि ने कहा अगर आप उस तोता को पकडकर देते है तो मैं आपको ढेर सारे इनाम दूंगा तो शिकारी ने दाना डाला, जाल बिछाया और उस तोते को पकड़ने के लिए लग गया तोता आया और दाना के लालच में उस जाल में फंस गया | फिर उसे ऋषि ने लिया उसे कहा तोता मैंने आपको क्या सिखाया था आप ने तो दोहा को रट लिया लेकिन इसको रटने से नहीं इसका उपयोग करने से आपको फायदा मिलेगा. धर्मेन्द्र कुमार9608798628.

Posted on: Dec 09, 2017. Tags: DHARMENDRA KUMAR

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download