ये येरे जून बेर लखे डूबी गेली...गीत-

ग्राम-रवानी, तहसील-बगीचा, जिला-जसपुर (छत्तीसगढ़) से धनंजयराम एक गीत सुना रहे हैं:
ये येरे जून बेर लखे डूबी गेली-
हाडी दारु सीठा के छोडली-
पढ़ली ना लिख ली दारुक संघे बितली-
हाडी दारु सीठा के छोडली-
कतनू समझले मोके बुझ नही पालू मै-
ये येरे जून बेर लखे डूबी गेली...

Posted on: Feb 13, 2020. Tags: CG DHANANJAYRAM JASPUR SONG

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download