हमारे गांव का नाम कोयापारा क्यों पड़ा : एक गाँव की कहानी

ग्राम-कोयापारा, ब्लाक-अंतागढ़, जिला-उत्तर बस्तर कांकेर (छत्तीसगढ़) से देवसिंह दुग्गा सीजीनेट जन पत्रकारिता यात्रा के अंकित पडवार को बता रहे है कि उनके गांव का नाम कोयापारा कैसे पड़ा, वे बता रहे हैं कि उनके चौथी पीढ़ी पूर्व एक पहला व्यक्ति था जिसका नाम था कोयाराम, वहां पर वह आकर बसा, तब वहां केवल एक ही परिवार था उसके अलावा कोई घर नहीं था और आज करीब 80 घर हो चुके है, उन्ही के नाम से गांव का नाम पड़ा कोयापारा पडा और आज भी उन्ही के नाम से इस गांव को जाना जाता है, वे तो चले गए लेकिन उस गांव को अपना नाम दे गए| अंकित पडवार@9993697650.

Posted on: Jun 17, 2018. Tags: DEVSINGH DUGGA