तारीफ़ तेरी निकली है दिल से, आई है लब पे बन के क़व्वाली...गीत

ग्राम-अन्दवा, पोस्ट-त्योंथर, तहसील+ब्लाक-त्योंथर, जिला-रीवा (म.प्र.) से देवेन्द्र आदिवासी एक भजन गीत सुना रहे है:
ज़माने में कहाँ टूटी हुई तस्वीर बनती है-
तेरे दरबार में बिगड़ी हुई तक़दीर बनती है-
तारीफ़ तेरी निकली है दिल से आई है लब पे बन के क़व्वाली-
शिरड़ी वाले साईँ बाबा आया है तेरे दर पे सवाली-
लब पे दुआएँ आँखों में आँसू दिल में उम्मीदें पर झोली खाली-
ओ मेरे साईँ देवा तेरे सब नाम लेवा-
जुदा इन्सान सारे सभी तुझको हैं प्यारे-
तुम्हीं फ़रियाद सबकी तुझे है याद सबकी-
बड़ा या कोई छोटा नहीं मायूस लौटा-
अमीरों का सहारा ग़रीबों का गुज़ारा-
तेरी रहमत का क़िस्सा बयाँ अकबर करे क्या-
दो दिन की दुनिया दुनिया है गुलशन-
सब फूल बाँटे तू सबका माली-
शिरड़ी वाले साईँ बाबा आया है तेरे दर पे सवाली...

Posted on: Feb 25, 2018. Tags: DEVENDRA ADIVASI

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download