ममता की खान माता नागिन बन गई है...कविता-

जिला-टीकमगढ़, (मध्यप्रदेश) से दशरथ प्रसाद रजक कविता सुना रहा है:
विनती करूं विधाता क्या भूल मुझ से भई है-
ममता की खान माता नागिन बन गई है-
न चाह न तो मुझको भैया को प्यार देना
जूठन ही बहुत है उस विधि से यही कहना-
फिर भी वो न माना डाक्टर निर्दयी है-
शमशान हर जगह है मंदिर हो या खाई-
सबको मोह लागा माता हो या ताई...

Posted on: Mar 14, 2019. Tags: DASHRATH YADAV MADHYA PRADESH TIKAMGARH

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download